बनारस। देश के आज़ादी के 70 वी वर्षगाठ पर एक चेहरा विवादों का भी रहा मुद्दा बना मदरसों में राष्ट्रगान और वंदे मातरम, मगर इस विवाद पर आज पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में स्थित एक मदरसे ने सारे विवादों से ऊपर राष्ट्रहित में देशभक्ति दिखाई । जहां ध्वजारोहण के साथ साथ राष्ट्रगान हुआ तो वंदे मातरम गीत के साथ भारत माता का जयजयकार भी हुआ । इस मदरसे में एडीएम सिटी जितेन्द्र मोहन सिंह ने राष्ट्रध्वज फहराया |

आज़ादी के पर्व स्वतंत्रता दिवस ने आज एक बार फिर काशी की गंगा जमुनी तहजीब को और मज़बूत कर दिया। दरअसल वाराणसी के अर्दली बाजार स्थित खानम जान मदरसे ने आज जहां हर साल की तरह यौमे आज़ादी पर राष्ट्रध्वज को लहरा कर सम्मान दिया तो वहीं वंदे मातरम और जन गण मन यानी राष्ट्रगान के लेकर विवाद करने वाले सियासतदारों को देशभक्ति का पाठ भी पढ़ा दिया ।

मदरसे की सेक्रेटरी इरफाना यासमीन ने बताया कि मुल्क से मोहब्बत ईमान की बका है। यानी मुल्क से वही मोहब्बत कर सकता है जिसका ईमान सही है। हम अपने मादरे वतन हिन्दुस्तान का हमेशा से मान रखते आये हैं और आगे भी रखंगे। हमारे मदरसे में हमेशा राष्ट्रिय पर्वों पर झंडा रोहण के साथ साथ राष्ट्रगान होता आया है। इस बार हम सब मुस्लिम भाई बहनों ने इस स्वतंत्रता दिवस पर आज़ादी के मतवालों की शान में राष्ट्रिय गीत वन्देमातरम भी गाया है।

इस मदरसे ने भारत माता की जय जयकार से आज के आज़ादी दिवस के सांस्कृतिक कार्यक्रमो का समापन करते हुए देश के वीर जवानों को भी याद किया ।​
Comments