बनारस। काशी हिन्दू विश्वविध्यालय में हुए बवाल के लिए विश्वविद्यालय के कुलपति जी सी त्रिपाठी ने न्यायिक जांच के आदेश दिए थे। जिसके लिए हाईकोर्ट के सेवानिवृत जज बी के दिक्षित को नियुक्त किया गया था। बीके दीक्षित ने विश्वविद्यालय पहुंचकर पहुंचकर सोमवार से जांच शुरू की थी। तीन दिन तक जांच करने और साक्ष्यों को इकठ्ठा कर रिटायर्ड जज अपने पहले चरण की जांच पूरी कर वो वापस चले गये। बुधवार को अंतिम दिन उन्होंने त्रिवेणी छात्रावास में जाकर छात्राओं से भी मुलाक़ात की। कयास लगाये जा रहे हैं की रिटायर्ड जज बी के दिक्षित दीपावली बाद दुबारा विश्वविध्यालय आ सकते हैं |

काशी हिन्दू विश्वविध्यालय में हुए बवाल के बाद कुलपति ने न्यान्यिक जांच के आदेश दिए थे। जिसपर हाईकोर्ट के रिटायर्ड जज की एक सदसीय जांच कमेटी सोमवार को बीएचयू पहुंची थी। बीएचयू के एलडी गेस्ट हाउस में टिके रिटायर्ड जज बी के दिक्षित के समक्ष मंगलवार और बुधवार को घटना के सम्बन्ध में 15 से अधिक छात्र छात्राओं ने अपने बयान दर्ज कराये और उन्हें घटना के पहलुओं से अवगत कराया।

न्यायिक जांच के पहले चरण के अंतिम दिन रिटायर्ड जज बी के दिक्षित ने स्नातकोत्तर छात्राओं के छात्रावास त्रिवेणी छात्रावास में छात्राओं से मुलाक़ात की और उनसे बातचीत कर घटना की जानकारी ली। उन्होंने महिला महाविद्यालय का भी निरिक्षण भी किया था। उन्होंने बीएचयू गेट से लेकर वीसी ऑफिस तक के रस्ते का भी निरिक्षण किया।

 

 

Comments