बनारस। आये दिनों स्वच्छ काशी सुन्दर काशी के स्लोगन के साथ वाराणसी को स्वच्छ दिखाने की सरकार की कोशिश की जाती रही है लेकिन इसके उलट इस वक्त जो शहर के हालत हैं वो बेहद दयनीय हैं। चारों तरफ धूल धक्कड़ है लोगों का सड़क पर चलना मुश्किल हो गया है। हर तरफ सड़कें खुदी हुई हैं। कैंट स्टेशन के पास ऐतिहासिक पंडित कमलापति त्रिपाठी के मूर्ति पर आधे इंच धूल जमने का दावा कांग्रेस द्वारा किया जा रहा है। इसी वजह से आज कांग्रेसजनों ने स्व पंडित कमलापति त्रिपाठी के मूर्ति को मास्क पहना कर और सैकड़ों की सख्या में मास्क पहनकर कांग्रेसियों ने प्रधानमंत्री से काशीवासियों की जान बचाने की गुहार लगाई है।

काशीवासियों की जान खतरे में है, मोदी जी जान बचाओ। ऐसे स्लोगन लिखकर प्रदुषण का विरोध  करने वाले कांग्रेसियों का कहना है की केंद्र सरकार केवल दिखावे और दावे करती है लेकिन पुरे बनारस में विकास नहीं सिर्फ प्रदुषण दिख रहा है। कांग्रेस सेवा दल के जिला अध्यक्ष हरीश मिश्रा ने बताया कि  हाल ही में एक एजेंसी ने वाराणसी को पूर्वांचल का सबसे प्रदूषित शहर बताया है जिससे वाराणसी के स्वच्छता की कलई खुल गई है।

पंडित जी के मूर्ति पर आधे इंच धूल जमी थी जिसे पहले सफाई किया गया फिर लोगों को जागरूक करने के लिए सभी कार्यकर्ताओं ने मुंह पर मास्क लगाकर प्रदुषण के लिए मोदी जी को जिम्मेदार ठहराते हुए इस चुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी को जिताने की अपील की गई ताकि हकीकत में काशी को स्वच्छ और सुन्दर बनाया जा सके। 

Comments