बनारस। विधुत दरों में हुई वृद्धि के विरोध के स्वर अब पूरे प्रदेश में उठने लगे हैं।  जगह जगह लोग विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं।  इसी क्रम में शहर की सामाजिक संस्था सुबह ए बनारस क्लब के बैनर तले आम नागरिकों ने मैदागिन स्थित  विधुत सब स्टेशन पर प्रदर्शन किया और बढी कीमतें वापस लेने की मांग की।

इस मौके पर क्षेत्रीय निवासी उमेश गुप्ता ने बताया कि मौजूदा सरकार ने चुनाव में जितने के पहले जनता को लुभावने वादे किये थे। हर चीज़ सस्ती करने की बात कही थी पर मौजूदा सरकार के आते ही घरेलू उपयोग की वस्तून के दाम में बेतहाशा वृद्धि हुई है।  जहां घरूलू गैस और डीज़ल पेट्रोल की कीमतों में वृद्धि हुई है।  वहीं विधुत दरों में बढोतरी कर आम जनता पर अतिरिक्त बोझ डाल दिया है।  आम आदमी जो पहले दाल चावल के लिए परेशान रहता था अब वो घर में रौशनी के लिए भी परेशान रहेगा।  अतः हमारी सरकार से मांग है कि जल्द से जल्द बढ़ी हुई विधुत दरों को वापस लिया जाए।

संस्था के अध्यक्ष मुकेश जायसवाल ने बताया कि सरकार के नए फरमान के साथ शहर के साथ ही साथ गावों में विधुत दरों में काफी इजाफा कर दिया गया है। इससे जनता में आक्रोश व्याप्त है। विधुत दरों में बढोतरी की वजह से इलेक्ट्रिकल उत्पादों से तैयार होने वाली चीजों की कीमत में बढोतरी हो सकती है। नियामक आयोग की तरफ से जो नया टैरिफ लागू किया जा रहा है, उसके तहत बिजली दरों में 12 परसेंट की वृद्धि की जा रही है। जो की गलत है।

 
Comments