बनारस । यूपी के दूसरे सबसे बड़े अधिकारी माफिया आर एस यादव के विरुद्ध प्रमुख समाजसेवी राकेश न्यायिक द्वारा जांच के लिए भेजा गया 700 पेज का साक्ष्य जांच के बाद मंगलवार को विशेष न्यायाधीश भ्र्ष्टाचार निवारण राजीव कमल पाण्डेय की कोर्ट सतर्कता अधिष्ठान के विवेचक अरविन्द सिंह ने कोर्ट में पेश किए ।

इस सम्बन्ध में सामाजसेवी राकेश न्यायिक ने बताया कि भ्र्ष्टाचार के आरोपी आर एस यादव व् अन्य के खिलाफ एकत्र किये गए 700 पेज का साक्ष्य कोर्ट में दाखिल किया गया है।उन्होंने बताया कि विवेचक ने चंदौली थाने में दर्ज लूट और भ्र्ष्टाचार मामले का जिक्र करते हुए कहा कि विवेचना के दौरान आरोपी द्वारा अवैध रूप से अर्जित परिसम्पत्तियों से सम्बंधित कुछ अभिलेख व् अन्य कागजात 700 पेज पूर्व विवेचक प्रदीप सिंह चंदेल के मामले में मेरी तरफ से उपलब्ध कराया गया था,जो विश्लेषण व् सत्यापन के लिए रख लिया गया था इन अभिलेखों की जाँच की जा चुकी है ऐसे में यह अभिलेख कोर्ट में दाखिल किये जा रहे है ।

इसी के साथ विवेचना समाप्त कोर्ट की जाती है,इसके पूर्व राकेश न्यायिक के अधिवक्ताओ योगेन्द्र नारायण सिंह,अश्वनी कुमार और अमरेंद्र विक्रम सिंह ने कोर्ट में आवेदन देकर आरोप लगाया था कि पदीय दायित्वों का अनदेखी कर आरोपियों को लाभ पहुचाने के आशय से भारी भरकम धनराशि रिश्वत लेकर दूषित व् संदिग्ध आरोप पत्र प्रेषित करने के प्रथमदृष्टया सतर्कता अधिष्ठान के एस पी व् विवेचक को तलब किया जाय, इस बिच केस डायरी दाखिल कर 700 पेज का अभिलेख कोर्ट में दाखिल कर दिया गया,मामले की अगली सुनवाई की तारीख 6 दिसंबर कोर्ट ने तय की है।

Comments