बनारस। मुस्लिम महिलाओं की हक़ की बात करने वाला तीन तलाक का कानून गुरूवार को संसद में पेश किया जाएगा। इस कानून के समर्थन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में मुस्लिम महिलाओं ने मुस्लिम महिला फाउंडेशन के बैनर  तले तीन तलाक के कानून के समर्थन में एक सभा की और सरकार के प्रति आभार व्यक्त करते हुए इस कानून में सज़ा का प्रावधान 3 से 7 साल करने की मांग की।

 
इस सम्बन्ध में मुस्लिम महिला फाउंडेशन की अध्यक्ष नाज़नीन अंसारी ने कहा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की  महिलाओं को तलाक के जहन्नुम से आज़ादी का कानून आज संसद में पेश होने वाला है। हमारी ऊपर वाले से दुआ है कि यह कानून संसद में आज पास हो जाए। हमारी सरकार से मांग है कि इस कानून में जो सज़ा का प्रावधान है उसे बढ़ा दिया जाए। तीन तलाक के लिए सरकार ने तीन साल की सज़ा तय की है लेकिन हमारी और मुस्लिम औरतों की मांग है कि सज़ा को तीन साल से बढ़ाकर 7 साल कर दिया जाए।

 
 
वहीं नाजनीन सहित अन्य मुस्लिम महिलाओं ने एक स्वर में आवाज़ उठाई की जो भी व्यक्ति किसी महिला को तलाक दे उसे मुस्लिम समाज या समाज का कोई भी वर्ग अपनी बेटी ना दे ताकि उसे पता चले कि तलाक के बाद एक औरत की जिंदगी कैसे नरक हो जाती है।साथ ही हलाला प्रथा को भी बंद करवाने की मांग की |

Comments