बनारस। क्षेत्रीय पुरातत्व इकाई वाराणसी उत्तर प्रदेश राज्य पुरातत्व विभाग के स्थापना दिवस समारोह के अंतर्गत मंगलवार को क्षेत्रीय पुरातत्व इकाई, गुरुधाम मंदिर परिसर में दो विश्व रिकॉर्ड प्रदर्शनी लगाई गयी। महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ की एमएफए की  स्टूडेंट नेहा सिंह ने तकरीबन 16 लाख माला की मोतियों से भारत का नक्शा उकेरा तो वहीं राहुल यादव ने नमामि गंगे के नाम से सबसे छोटा फोटो अल्बम तैयार किया।

36 घंटे में तैयार हुआ भारत का मानचित्र 

इंडिया बुक ऑफ़ वर्ल्ड रिकार्ड में अपना नाम दर्ज कराने वाली महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ की एम् ऍफ़ ए की छात्रा नेहा सिंह ने बताया कि इस मानचित को बनाने की प्रेरणा मुझे विश्व रिकार्ड धारी डॉ जगदीश पिल्लई से मिली जिन्होंने इस कार्य के लिए प्रेरित किया।  यह पूरा मानचित्र 10 x 11 फिट है जिसमे 16 लाख मोतियां (21 किलो ) लगाईं गयी हैं। यह मानचित्र 6 दिनों में 36 घन्टे में बनकर तैयार हुआ है।

 

 

104 पेज में राहुल ने उकेरा नमामि गंगे का खाका 

नेहा के साथ साथ सबसे छोटी फोटो एल्बम बनाकर अपना नाम इंडिया वर्ल्ड रिकार्ड में दर्ज करवाने वाले बलिया के राहुल यादव ने बताया कि ‘ मै जगदीश सर के साथ ही रहता हूं।  वो समय समय पर नए रिकार्ड के लिए काम करते रहते हैं उन्ही को देखकर मेरे भी मन में कुछ करने की प्रेरणा जागी।  जिसके बाद मैंने गंगा घाट की फोटो खीचना शुरू किया।  मैंने 5 दिन के अन्दर डॉ जगदीश के सहयोग से 156 फोटो वाली 104 पेज की नमामि गंगा के नाम से 2.5 x 3.5 इंच की फोटो एल्बम तैयार की है।

 इण्डिया वर्ल्ड रिकार्ड में अपना नाम दर्ज कराने वाली नेहा की मार्ग दर्शिका रहीं आर्टिस्ट और इण्डिया वर्ल्ड रिकार्ड में अपना नाम दर्ज करवा चुकी पूनम राय ने बताया कि जब मैंने अपना रिकार्ड बनाया तो नेहा ने कहा कि क्या मै ऐसा कोई रिकार्ड नहीं बना सकती तो मैंने कहा क्यों नहीं और आज नेहा की कोशिश ने नया रिकार्ड बना दिया है।

 

 
 
Comments