बनारस। कोर्ट के सवाल के बाद प्रदेश सरकार ने धार्मिक स्थलों पर लाऊड स्पीकर को लेकर प्रक्रिया शुरू कर दी है और सभी को अपने अपने धार्मिक स्थल पर लाऊड स्पीकर रजिस्टर्ड करवाने की अंतिम तारीख़ 15 जनवरी तय की गयी है।  इसी सम्बन्ध में शहर के नई सड़क चौराहे पर स्थित खुदा बक्श लंगड़े हाफ़िज़ की मस्जिद में बाद नमाज़े जोहर इज्तेमाई हेलाल कमेटी की जेरे निगरानी एक अहम् बैठक संपन्न हुई।  जिसमे सभी मुल्सिम उलेमाओं ने एक जुट होकर कोर्ट के फैसले का स्वागत किया और नयायालय से इस मामले में और समय देने की बात भी कही।

 

शहर की खुदा बक्श लंगड़े हाफ़िज़ की मस्जिद में आज एक अहम् बैठक मुस्लिम ओलेमाओं की हुई।  यह बैठक लाऊडस्पीकर पर आये कोर्ट के सवाल के बाद प्रदेश सरकार की जारी कार्रवाई के सम्बन्ध में थी।  इस मीटींग में शिरकत कर रहे शहर मुफ़्ती मौलाना बातिन नोमानी ने कहा कि हम न्यायालय के हर फैसले का सम्मान करते है और आगे भी करेंगे।  न्यायलय ने जो आदेश लाऊड स्पीकर के मामले में दिया है उसका हम स्वागत करते हैं पर हमारे शहर में 1000 से अधिक मस्जिद हैं और सभी को कानून से वैध करवाने में समय लगेगा और तब तक अगर अज़ान नहीं होगी तो भावनाओं को ठेस पहुंचेगी।  इसलिए हमारी मांग है कि सरकार हमें और मोहलत दे ताकि हम सभी को रजिस्टर्ड करवा सकें।

दूसरी तरफ वाराणसी पुलिस कप्तान रामकृष्ण भारद्वाज ने बताया कि कोर्ट के आदेश है और हमें कानून का पालन करना है हमने 15 जनवरी तक समय दिया है इसके अन्दर लाउडस्पीकर लगाने की परमिशन लेनी है, तो संबंधित थाने से संपर्क करें या फिर सिटी मजिस्ट्रेट के यहां एप्लीकेशन दें। इसके बाद हम क़ानूनी कार्रवाई  करने पर मजबूर होंगे।

Comments