बनारस। देश के प्रधानमंत्री और वाराणसी के सांसद नरेंद्र मोदी ने जब  शहर के अस्सी घाट से फावड़ा चलाकर स्वच्छता संदेश  दिया था तो किसी ने सोचा नहीं था कि वाराणसी इतनी जल्दी स्वच्छता की दिशा में नए आयाम स्थापित करेगा।

 

पीएम नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में मकर संक्रांति के दिन बहुत खास रहा क्योंकि इस मौके पर जिले के मुख्य विकास अधिकारी के प्रयासों से जिले के आराजीलाइन ब्लाक के 7 गांव को 1100 शौचालय की सौगात एक साथ एक ही दिन दी गई।

इसके अलावा 51 गांव को ओडीएफ यानी खुले में शौच मुक्त गांव घोषित करते हुए स्वच्छ भारत अभियान के क्रम में एक कदम आगे और बनारस में बढ़ाया।

संक्रांति स्वच्छता मेला का हुआ आयोजन 

कई दिनों की तैयारी के बाद आज आराजीलाइन के  जलालपुर गांव में संक्रांति स्वच्छता मेला का आयोजन किया गया। इस मेले की अध्यक्षता प्रदेश के राज्यमंत्री डॉ नीलकंठ तिवारी ने की। इस मौके रोहनिया के विधयाक समेत मिशन निदेशक स्वच्छ भारत मिशन, कमिश्नर वाराणसी , डीएम वाराणसी भी मेले में मौजूद रहे।

 

 इस मौके ग्रामीणों  को खुले में शौच ना करने के प्रति जागरूक करने वाली महिलाओ ने कहा कि गांव को खुले में शौच से मुक्त कराना हैं। क्योंकि  खुले में शौच से कई प्रकार की गंभीर बीमारियां फैलती हैं। हमलोग का लक्ष्य हैं कि अपने गाँव में लोगो को जागरूक  कर लोगो को शौचालय में  जाने के लिए प्रेरित करते हैं।

 

इस बारे में जिलाधिकारी योगेश्वर राम मिश्रा ने बताया कि  आज मकर संक्रांति हैं आज से खरवास के बाद अच्छे दिन शुरू होते हैं।  आज से सूर्य  पूरी तरह अपनी गति को प्रदान करते हैं। आज सभी पवित्र नदियों में अपने विकार को धुलने के लिए स्नान किया जाता हैं।  इसलिए गंदगी  से निस्तारण के लिए आज संकल्प लिए गया हैं कि हमलोग 24 घंटे के अंदर ग्यारह सौ शौचालय का का तोहफा दिया गया हैं।  और हमारी पूरी कोशिश  31 मार्च 2018 तक पुरे जनपद को ओडीएफ घोषित करें।

 

ऐसा पहली बार हुआ कि जब मकर संक्रांति के पर्व को स्वच्छता पर्व के रूप में मनाया गया। इस दौरान आराजीलाइन के जलालपुर, मोहराई, कल्लीपुर, बसंत पट्टी, हरसोसपुर, बेनीपुर और वीरभानपुर गांव को 1100 शौचालयों की सौगात एक ही दिन में दी गई है। 

Comments