भइयालाल पहलवान का निधन, काशी के इस बेटे की कभी देशभर में होती थी चर्चा

बनारस। वाराणसी के चोलापुर क्षेत्र के बलुवा ग्राम सभा निवासी भैया लाल पहलवान का निधन हो गया है। वो काफी दिनों से बीमार चल रहे थे। भैयालाल को 1973 में उत्तर प्रदेश के प्रतिष्ठित लक्ष्मण पुरूस्कार से सम्‍मानित किया गया था। भइयालाल 60 और 70 के दशक में बनारस की पहलवानी के अंतरराष्‍ट्रीय चेहरा थे।

स्टेट बैंक ऑफ़ इण्डिया के मंडलीय कार्यालय से रिटायर हुए भैयालाल का बुधवार सुबह निधन हो गया। उनके निधन की खबर सुनकर खेल प्रमियों और कुश्ती प्रेमियों में शोक की लहर दौड़ गयी। दोपहर बाद इनका अंतिम संस्कार काशी के मणिकर्णिका घाट पर किया गया। ये अपने पीछे दो बेटे और चार बेटियां छोड़ गये हैं। भइया लाल के निधन की खबर लगते ही घर पर सांत्वना देने वालों का तांता लगा गया।

उत्तर प्रदेश के पूर्व राज्यपाल विष्णुकांत शास्त्री द्वारा राजभवन लखनऊ में सम्मानित किया गया था

भैयालाल ने किया था देशभर में बनारस का नाम रोशन। ये रहीं उनकी उपलब्‍धियां –

  • 1966 से 1969 तक वाराणसी जनपद में रेसलिंग चैंपियनशिप विजेता

  • 1965 में उत्तर प्रदेश चैंपियनशिप लखनऊ

  • 1966 में उत्तर प्रदेश चैंपियनशिप मथुरा

  • 1967 उत्तर प्रदेश चैंपियनशिप आगरा

  • 1968 में उत्तर प्रदेश चैंपियनशिप मुरादाबाद

  • 1966 में राष्ट्रीय चैंपियनशिप पटियाला

  • 1967 में राष्ट्रीय चैंपियनशिप फ्री स्टाइल

  • 1967 में अर्जुन पुरस्कार विजेता श्री विश्वंभर सिंह रेलवे से पराजित

  • 1967 में ग्रीको रोमन स्टाइल अफगानिस्तान में भाग लिया

  • 1968 में नेशनल रेसलिंग चैंपियनशिप कांस्य पदक

  • 1969 में शमशेर सिंह अंतर्राष्ट्रीय परमाणु पराजित

  • 1970 में राष्ट्रीय रेसलिंग चैंपियनशिप कटक में गोल्ड मेडल

  • 1970 में राष्ट्रीय रेसलिंग चैंपियनशिप कटक ग्रीक ग्रीको रोमन में गोल्ड मेडल

  • 1972 में नेशनल रेसलिंग चैंपियनशिप वाराणसी फ्री स्टाइल में गोल्ड मेडल

  • 1966 फर्स्ट राष्ट्रीय जूडो चैंपियनशिप हैदराबाद में गोल्ड मेडल

  • 1968 सेकंड नेशनल जूडो चैंपियनशिप मद्रास में गोल्ड मेडल

  • 1970 थर्ड नेशनल जूडो चैंपियनशिप में गोल्ड मेडल

  • 1972 (4) नेशनल जूडो चैंपियनशिप हैदराबाद गोल्ड मेडल

  • 1973 उत्तर प्रदेश गवर्नमेंट द्वारा अर्जुन पुरस्कार

  • 1973 वाराणसी कारपोरेशन ने सम्मानित किया।

Comments
Loading...