तो रमाडा-JHV सहि‍त 762 भवनों पर चलेगा बुलडोजर ! न्‍यायि‍क के खत ने मचाई खलबली

0
134
बनारस। प्रमुख समाजसेवी, साहि‍त्‍यकार तथा ‘गरीब, शोषि‍त, असहाय, वि‍धि‍क सहायता संस्‍थान’ के संचालक राकेश श्रीवास्‍तव ‘न्‍यायि‍क’ की एक चि‍ट्ठी ने वाराणसी प्रशासन सहि‍त जि‍ले के तमाम भू-माफि‍याओं में खलबली मचा के रख दी है।

 

खत ने मचाई खलबली
28 अक्‍टूबर को वाराणसी मंडल के कमि‍श्‍नर और वाराणसी वि‍कास प्राधि‍करण के नाम लि‍खी चि‍ट्ठी पर आयुक्‍त नि‍ति‍न रमेश गोकर्ण ने कार्रवाई के लि‍ए जि‍ले के तीन बड़े अफसरों को आदेश दे दि‍ये हैं।

कमि‍श्‍नर ने दि‍ये आदेश

आयुक्‍त वाराणसी मंडल की ओर से 31 अक्‍टूबर को जि‍लाधि‍कारी, एसएसपी तथा वाराणसी वि‍कास प्राधि‍करण के उपाध्‍यक्ष को आदेशि‍त करते हुए लि‍खा गया है कि‍ राकेश श्रीवास्‍तव ‘न्‍यायि‍क’ का पत्र जो कि‍ वरुणा नदी की चि‍ह्नि‍त सीमा के आगे अवैध नि‍र्माण आदि‍ से संबंधि‍त है, के संबंध में संयुक्‍त टीम गठि‍त कर स्‍थल नि‍रीक्षण करें और उसके पश्‍चात आवश्‍यक कार्रवाई कराते हुए 10 नवंबर तक आख्‍या उपलब्‍ध कराएं।

 

आयुक्‍त कार्यालय से जारी पत्र

खत में क्‍या मांग की गई
दरअसल, वाराणसी के प्रमुख समाजसेवी राकेश न्‍यायि‍क की ओर से कमि‍श्‍नर और वीडीए के उपाध्‍यक्ष को पत्र लि‍खा गया था। पत्र में काशी की सांस्‍कृति‍क धरोहर वरुणा नदी की चि‍ह्नि‍त सीमा के आगे 50 मीटर की परि‍धि‍ में मौजूद अवैध नि‍र्माण को तत्‍काल प्रभाव से ध्‍वस्‍त करने या हटाये जाने की मांग की गई थी।

 

पत्र में न्‍यायि‍क ने इस बात का स्‍पष्‍ट उल्‍लेख भी कि‍या कि‍ उत्‍तर प्रदेश सरकार की शीर्ष प्राथमि‍कताओं के कार्य में सिंचाई वि‍भाग द्वारा वरुणा नदी में ड्रेजिंग का कार्य शामि‍ल है। उन्‍होंने लि‍खा है कि‍ वाराणसी के कमि‍श्‍नर महोदय ने भी अप्रैल 2016 में इस कार्य की समीक्षा की थी। जि‍सके बाद खुद कमि‍श्‍नर नि‍ति‍न रमेश गोकर्ण ने वरुणा नदी की चि‍ह्नि‍त सीमा के आगे 50 मीटर परि‍धि‍ में वि‍द्यमान नि‍र्माणों का तत्‍काल सर्वे कराने का आदेश दि‍या था।

राकेश न्‍यायि‍क की ओर से कमि‍श्‍नर को भेजी गई चि‍ट्ठी


बता दें कि‍ तब (2016 में) कमि‍श्‍नर वाराणसी के नि‍र्देशानुसार वाराणसी वि‍कास प्राधि‍करण के तत्‍कालीन सचि‍व एमपी सिंह ने दो टीमों का गठन कर दि‍या था। दोनों टीमों के अंदर 14-14कर्मचारि‍यों का दस्‍ता बनाया गया। सर्वे टीम ने अपनी 52 पन्‍नों की रि‍पोर्ट में वाराणसी के ऐसे 762 भवन स्‍वामि‍यों, स्‍थल का पता, वार्ड का नाम, भवन/भूखंड की माप, व तल/ऊंचाई का ब्‍यौरा वाराणसी वि‍कास प्राधि‍करण के अधि‍कारि‍यों के सामने पेश कर दि‍या था, जि‍न्‍होंने वरुणा नदी के सीमांकि‍त क्षेत्र के 50 मीटर की परि‍धि‍ में अवैध नि‍र्माण करा रखे थे।

 

पूरे मामले पर राकेश न्‍यायि‍क का बयान

 

समाजसेवी राकेश न्‍यायि‍क के अनुसार इन 762 भवनों की लि‍स्‍ट में रमाडा होटल, जेएचवी मॉल, क्‍लार्क होटल, रेडि‍सन होटल, सूर्या होटल, आइडि‍यल टॉवर सहि‍त तमाम बड़े लोगों की सम्‍पत्‍ति‍यां शामि‍ल हैं। राकेश न्‍यायि‍क ने वाराणसी के कमि‍श्‍नर को इस बाबत कड़ा फैसला लेने के लि‍ए धन्‍यवाद भी दि‍या है।

 

फि‍लहाल वाराणसी के कमि‍श्‍नर द्वारा जि‍ले के तीन बड़े अफसरों को पत्र के बाबत आदेशि‍त कि‍ये जाने के बाद शहर के बड़े भू-माफि‍याओं में खासी खलबली मची हुई है।