वाराणसी : थाने पर बने रहना है तो मानने पड़ेंगे ADG साहब के ये पांच आदेश

बनारस। वाराणसी पुलिस के आला अफसरों ने अपने मातहतों को साफ-साफ लफ्जों में समझा दिया है कि अगर उन्‍हें ड्यूटी करनी है तो अपनी जिम्‍मेदारियों को गंभीरता से लेना सीख लें। पुलिस लाइन स्थित न्यू अतिथि गृह में आयोजित अपराध गोष्ठी के दौरान मौजूद अधिकारियों ने महकमे के कर्मचारियों के लिए पांच बिंदुओं का विशेष ध्‍यान रखने की हिदायत दी है।

जनपद में कानून-व्यवस्था बनाये रखने, अपराधियों के विरूद्व प्रभावी कार्रवाई करने तथा आने वाले त्‍यौहारों को सकुशल सम्पन्न कराने के लिए पुलिस अफसरों ने ये गाइडलाइन जारी किये हैं।

1 : सभी प्रभारी निरीक्षक/थानाध्यक्ष को निर्देशित किया गया है कि वे अपने थाने पर तैनात सभी कर्मचारियों की एक गोष्ठी आयोजित कर आगामी त्यौहारों के दौरान सतर्कता व सुरक्षा व्यवस्था बनाये रखने के दृष्टिगत उन्हें भलीभांति ब्रीफ कर दें। जिससे ड्यूटी के दौरान उन्हें कोई समस्या न होने पाये। इसके अतिरिक्त यह भी निर्देशित कर दें कि ड्यूटी के दौरान उनका व्यवहार आम जन के साथ सरल एवं अनुशासित होना चाहिए।

2 : जघन्य अपराधियों एवं लोकशांति भंग करने वाले अवांछनीय तत्वों को चिह्नित कर उनके विरुद्ध राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम, गैंगस्टर एक्ट, गुण्डा एक्ट आदि की कार्रवाई प्रभावी रूप से की जाय। अधिकारियों ने स्‍पष्‍ट इशारा कर दिया कि उनके आशानुरूप कार्रवाई नहीं की जा रही है। अतः इसे गम्भीरता से लेते हुए आवश्यक कार्रवाई सुनिश्‍चित करें।

3 : गोष्ठी के दौरान एसआर केस/गैंगस्टर/गुण्डा एक्ट के साथ ही अन्य धाराओं में पंजीकृत अभियोगों में अपराधियों के विरूद्व अभियान चलाकर कार्रवाई करें।

4 : लूट, चोरी, वाहन चोरी, नकबजनी, चैन स्नेचिंग की घटनाओं पर प्रभावी कार्रवाई करें। साथ ही इन गतिविधियों पर पूर्णतया रोक लगाने के लिए सभी सम्बन्धित सीओ अपने-अपने क्षेत्र के थाना प्रभारियों के साथ वार्ता कर इन्हें टास्क दें। इसके अलावा बाजारों, सर्राफा बाजारों, मॉल आदि चिह्नित स्थानों पर गश्त बढ़ा दें और आवश्‍यक लगे तो चेकिंग अभियान भी चलायें।

5 : महिला व बाल अपराध की सूचना को गम्भीरता से लेते हुए कम-से-कम समय में घटना स्थल पर पहुंच कर आवश्यक कार्रवाई सुनिश्चित करें या करायें। इस प्रकार की घटनाओं में किसी प्रकार की लापरवाही बर्दाश्‍त नहीं की जाएगी।

क्राइम गोष्‍ठी के दौरान वाराणसी पुलिस के एडीजी, डीआईजी, एसएसपी सहित सभी क्षेत्राधिकारी व थानाध्‍यक्ष मौजूद रहे।