वाराणसी : रेलकर्मियों ने लगाया आरोप, ‘साहब लोग बंगले पर कराते हैं घरेलू काम-काज’

बनारस। रेलवे में व्याप्त भष्टाचार व कमचारियों के उत्पीड़न एवं निजीकरण के विरुद्ध मंडल रेल प्रबंधक कार्यालय वाराणसी के समक्ष एनई रेलवे मेन्स कांग्रेस द्वारा धरना- प्रदर्शन व आम सभा का आयोजन किया गया। इसके उपरांत संगठन के कर्मचारी नेताओं ने रेल प्रशासन को अपनी मांगों के समर्थन में पत्रक सौंपा।

वेतन विसंगतियों में सुधार हो
सभा का नेतृत्‍व करते हुए एनई रेलवे मेन्‍स कांग्रेस के केंद्रीय अध्‍यक्ष अखिलेश पांडेय ने रेल प्रशासन को चेतावनी देते हुए कहा कि रेल कर्मचारियों की लंबित मांगों को तत्‍काल पूरा करते हुए सातवें वेतन आयोग की विसंगतियों में सुधार किया जाये।

रेलवे अस्‍पताल है खस्‍ताहाल 
अखिलेश पांडेय ने कहा कि मंडल रेल चिकित्‍सालय की चिकित्‍सा सुविधा काफी जर्जर हो चुकी है। एवं विगत माह से ओपीडी में वरिष्‍ठ चिकित्‍सक ड्यूटी नहीं कर रहे हैं। जिससे रोगी कर्मचारियों के इलाज पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ रहा है। पांडेय ने मांग किया कि चिकित्‍सा सुविधा में शीघ्र सुधार करते हुए ओपीडी में वरिष्‍ठ चिकित्‍सकों की ड्यूटी सुनिश्‍चित की जाये।

बंगले पर साहब-मेमसाहब कराते हैं घरेलू काम 
इस अवसर पर मंडल मंत्री दुर्गेश पाण्डेय ने कहा कि ट्रैकमेंटरों का उत्‍पीड़न चरमसीमा पर पहुंच गया है। रेलवे बोर्ड के आदेश को नजरअंदाज करते हुए इनपर दबाव बनाकर अभी भी इनसे बंगले पर काम लिया जा रहा है। ट्रैकमेंटरों को छुट्टी व रेस्‍ट देने हेतु लाइन में धनउगाही की जा रही है। उन्‍होंने मांग की कि कर्मचारियों का शोषण तुरंत बंद हो और अफसरों के बंगलों पर उनके घरेलू काम ट्रैकमंटरों से ना कराये जायें।

ड्राइवर-गार्ड को दीजिये थोड़ा आराम 
वही मंडल अध्यक्ष मनोज कुमार ने सभा को सम्बोधित करते हुए मांग किया कि 12 घंटे अमानवीय ड्यूटी रोस्टर को तत्काल बंद किया जाए। कर्मचारी नेताओं ने मांग की कि लोको पायलट, गार्ड व सेफ्टी से सीधे-सीधे जुड़े कर्मचारियों से अंडर रेस्‍ट कार्य न लिया जाये।

महिला कर्मचारियों की सुरक्षा पर खतरा 
मनोज कुमार ने कहा कि कोचिंग डिपो मंडुआडीह एवं छपरा में अनाधिकृत व्‍यक्‍तियों एवं असमाजिक तत्‍वों के आवाजाही व जमावड़ा से महिला कर्मचारियों की सुरक्षा खतरे में बनी हुई रहती है, इसको तत्‍काल रेल प्रशासन संज्ञान में ले और महिला आरपीएफ को डिपो के अंदर पोस्‍ट करे।

मंडुआडीह पर टीटीई रेस्‍ट रूम बनाया जाये 
मेन्‍स कांग्रेस के कोषाध्‍यक्ष राजीव पाठक ने सभा को संबोधित करते हुए मांग किया कि मंडुआडीह स्‍टेशन पर टिकट चेकिंग स्‍टाफ बेस बनाया जाये व शाहगंज में टीटीई रेस्‍ट रूम की व्‍यवस्‍था की जाये।

छह घंटे का हो रोस्‍टर 
कर्मचारी नेता राजेश सिंह ने संभा को संबोधित करते हुए मांग किया कि बढ़ती सवारी और माल गाड़ियों, सेक्‍शनल कर्न्‍जशन, विभिन्‍न प्रकार के ब्‍लाक इत्‍यादि के बढ़ते बोझ को देखते हुए छपरा अैर कप्‍तानगंज बोर्ड एवं डिप्‍टी कोचिंग व गुड्स का रोस्‍टर छह घंटे का किया जाये।

स्‍थानांतरण पर 
महामंत्री अब्‍दुल शेख ने सभा के माध्‍यम से मांग किया कि विशेष परिस्‍थितियों में ही टिकट चेकिंग स्‍टाफ एवं बुकिंग संवर्ग के कर्मचारियों का आवधिक स्‍थानांतरण किया जाये।

मंडुआडीह स्‍टेशन पर मच्‍छर बहुत हैं 
कर्मचारी नेता गोपीनाथ उपाध्‍याय ने सभा को संबोधित करत हुए मांग किया कि मंडल प्रशिक्षण केंद्र मंडुआडीह में पीने के पर्याप्‍त पानी हेतु आरओ लगवाया जाये एवं हास्‍टल में प्रशिक्षुओं हेतु नई तख्‍ता (चौकी) तथाा मच्‍छरदानी की तत्‍काल व्‍यवस्‍था किया जाय।

रिस्‍क अलाउंस दिया जाये 
कर्मचारी नेता अभिषक चतुर्वेदी ने सभा को संबोधित करते हुए कहा कि विद्युत/टीआरडी के कर्मचारी जो कि 25 केवी केओएचई के अनुरक्षण का रिस्‍क भरा कार्य करते हैं फिर भी इन्‍हें रिस्‍क अलाउंस देने से वंचित रखा गया है। चतुर्वेदी ने मांग किया कि टीआडी के कर्मचारियों को भी रिस्‍क अलाउंस दिया जाये।

खाली पदों को भरा जाये 
कर्मचारी नेता आनंद मोहन सिंह ने सभा को संबोधित करते हुए रेल प्रशासन से मांग किया कि पदों के सरेण्‍डर रोक लगाते हुए गाड़ियों की वृद्धि के अनुपात में पदों का सृजन किया जाये एवं सभी रिक्‍त पड़े पदों को अविलम्‍ब भरा जाये।

दवाओं की गुणवत्‍ता बढ़ाएं
कर्मचारी नेता महेन्‍द्र दूबे ने सभा को संबोधित करते हुए मांग किया कि मंडल रेल चिकित्‍सालय में जीवन रक्षक उच्‍च गुणवत्‍ता वाली दवाओं की आपूर्ति की जाये।

ओवर टाइम का भुगतान हो 
कर्मचारी नेता डीके श्रीवास्‍तव ने सभा के माध्‍यम से मांग किया कि ट्रनों में एस्‍कॉर्ट करने वाले विद्युत, कैरेज एवं ओवरटाइम ड्यूटी करने वाले अन्‍य सभी कर्मचारियों को ओवरटाइम का भुगतान किया जाये।

आश्रितों को नौकरी दी जाये 
गोरखपुर मुख्‍यालय से आये कर्मचारी नेता विजयनाथ ठाकुर ने सभा को संबोधित करते हुए मांग किया कि लार्सजेस के तहत रेल कर्मियों के आश्रितों को नौकरी देने का लाभ पुन: बहाल किया जाये एवं नई पेंशन स्‍कीम को समाप्‍त कर पुरानी पेंशन योजना को पुर: बहाल किया जाये।

रेलवे का निजीकरण नहीं होने देंगे
कर्मचारी नेता नसीमु रहमान ने सभा को संबोधित करते हुए कहा कि वर्तमान सरकार कर्मचारी विरोधी नीतियों को अपनाते हुए षडयंत्र के तहत रेलवे का निजीकरण कर रही है एवं कर्मचारियों की छटनी कर रही है, जिससे रेल में युवाओं के लिये रोजगार का अवसर दिन-प्रतिदिन बंद होते जा रहे  हैं। उन्‍होंने मांग किया कि रेलवे के निजीकरण पर तत्‍काल रोक लगाई जाये।

रेलकर्मियों को दी जाये सुरक्षा 
सभा की अध्‍यक्षता करते हुए कर्मचारी नेता शिवेन्‍द्र पांडेय ने पिछले दिनों मंडुआडीह जीआरपी द्वारा घटित घटना को लेकर निंदा करते हुए रेल प्रशासन से कर्मचारियों की सुरक्षा की मांग की।

धरना प्रदर्शन व आम सभा में रेलकर्मी नेता संजय तिवारी, अकील अहमद, बीबी सिन्‍हा, मो अजहर सगीर खां, इंद्रजीत उपाध्‍याय, प्रदीप गुप्‍ता, अजय खरे, शैलेष राय, महेश राम, राहुल श्रीवास्‍तव, डीके मल्‍ल, बीरेंद्र पांडेय, जितेन्‍द्र यादव, अनिल सिन्‍हा, मो इजहार, भारतेंदु शेखर पांडेय, मो बेलाल, अखिलेश शुक्‍ला, गैरीशंकर सिंह, मो अब्‍दुला, रमैया मिश्रा, संजीव सिंह, राजन दूबे, अनुप कृष्‍ण श्रीवस्‍तव, डीएन सिंह एवं विनय दूबे इत्‍यादी मुख्‍य रूप से उपस्‍थित रहे। धन्‍यवाद ज्ञापन अभिषेक दूबे द्वारा किया गया।