वाराणसी की अदालत में हाजिर होंगे योगी के कैबिनेट मंत्री ओम प्रकाश राजभर

0
44

नारस। सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष और योगी सरकार में गठबंधन के साथी व कैबिनेट मंत्री ओम प्रकाश राजभर शुक्रवार को वाराणसी की जिला सत्र अदालत में सुबह 10 बजे हाजिर होंगे। सन 2010 के एक मामले में कैबिनेट मंत्री की पेशी वाराणसी की कोर्ट में होगी।

इस मामले में हो रही है हाजिरी
कैबिनेट मंत्री ओम प्रकाश राजभर के प्रतिनिधि और सुभासपा के प्रदेश महासचिव शशि प्रताप सिंह ने ये जानकारी देते हुए बताया कि साल 2010 में थाना चौबेपुर अंतर्गत शाहपुर गांव में दिसंबर की सर्दियों के वक्‍त गरीबो का घर बसपा सरकार में बुलडोजर से गिरवा दिया गया था। इस घटना के बाद सुभासपा के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष ओम प्रकाश राजभर ने वाराणसी मंडल के कमिश्नर के आवास पर जाकर पत्रक देने का प्रयास किया था। इसी समय प्रसासन ने लाठी चार्ज करके ओमप्रकाश राजभर, शशिप्रताप सिंह सहित 9 लोगो को 13 दिन जेल भेज दिया था। फिर जमानत पर सभी बाहर आ गये लेकिन मुकदमा अभी तक चल रहा है।

भाजपा कर रही सौतेला व्‍यवहार
प्रदेश महासचिव शशि प्रताप सिंह ने इस मामले में प्रदेश सरकार की दोहरी नीति को कोसा है। उन्‍होंने आरोप लगाया है कि अखिलेश सरकार में सपाइयों पर लगे राजनीतिक मुकदमों को वापस ले लिया गया। भाजपा की सरकार में मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ सहित कितने ही भाजपाइयों का मुकदमा वापस हुआ है, लेकिन ओमप्रकाश राजभर ने कई वार आवेदन दिया मगर भासपा नेताओं पर लगा राजनीतिक प्रेरित मुकदमा अबतक वापस नही हुआ। शशि प्रताप सिंह ने इसे सौतेला व्यवहार करार देते हुए इसे गठबंधन के लिये ठीक नहीं बताया है।

सरकार वापस ले राजनीतिक मुकदमे
मंत्री के प्रतिनिधि ने सरकार से मांग की है कि जल्द से जल्‍द ओमप्रकाश राजभर सहित 9 लोगों पर लगे मुकदमे को वापस लिया जाए। उन्‍होंने आरोप लगाया कि हम लोगों को प्रताड़ित करने के लिये ही मुकदमा वापस लेने के बजाय WB नोटिस सबके घर-घर भेजवा दिया गया है। कैबिनेट मंत्री के प्रतिनिधि शशि प्रताप सिंह ने बताया कि शुक्रवार को मंत्री ओम प्रकाश राजभर सहित सभी 9 लोग कोर्ट में हाजिर होंगे तथा अपनी जमानत के लिये जज से गुहार लगाएगे। कोर्ट का जो भी आदेश होगा वो सर आँखों पर रहेगा। उन्‍होंने कहा कि जुल्म, जाति अन्याय व किसान, गरीब, पिछड़े व दलित के लिये 100 बार भी जेल जाना पड़े तो हम तैयार हैं।