बनारस। 15 मई को वाराणसी में हुए फ्लाईओवर हादसे में जांच के बाद क्राइम ब्रांच ने शनिवार को सेतु निगम के सात कर्मचारियों सहित एक ठेकेदार को जेल भेज दिया है। इस कार्रवाई के बाद पूरे प्रदेश भर के निर्माणधीन सेतु निगम के पुलों के कार्य पर तलवार लटक गयी है क्योंकि इस कार्रवाई से सेतु निगम के अभियंताओं में आक्रोश है और उन्होंने सभी निर्माणधीन कार्य ठप करने की चेतावनी दी है।

उत्तर प्रदेश राज्य सेतु निगम लिमिटेड के सेतु अभियंता एसोसिएशन के अध्यक्ष अशोक तिवारी ने लखनऊ में दिए अपने बयान में कहा कि एक पक्षीय जांच करते हुए सेतु निगम के अभियंताओं व अधिकारियों को दोषी नहीं माना जा सकता। स्थानीय प्रशासन द्वारा सेतु निगम के अभियंताओं के विरुद्ध संवैधानिक कार्रवाई करते हुए आज घटना से संबंधित मुख्य परियोजना प्रबंधक स्तर से अवर अभियंता, सहित आठ को गिरफ्तार करना न्याय संगत नहीं है।

विज्ञापन

उन्होंने कहा कि वाराणसी फ्लाई ओवर हादसे में अभियंताओं के ऊपर एकतरफा कार्रवाई सही नहीं। अशोक तिवारी ने चेतावनी देते हुए कहा कि यदि इस पर कोई समुचित समाधान नहीं हुआ तो गिरफ्तारी के विरोध में निर्माणाधीन कार्यों का निर्माण ठप करने के लिए हम मजबूर होंगे।

विज्ञापन
Loading...
www.livevns.in का उद्देश्‍य अपनी खबरों के माध्‍यम से वाराणसी की जनता को सूचना देना, शि‍क्षि‍त करना, मनोरंजन करना और देश व समाज हित के प्रति जागरूक करना है। हम (www.livevns.in) ना तो कि‍सी राजनीति‍क शरण में कार्य करते हैं और ना ही हमारे कंटेंट के लिए कि‍सी व्‍यापारि‍क/राजनीतिक संगठन से कि‍सी भी प्रकार का फंड हमें मि‍लता है। वाराणसी जिले के कुछ युवा पत्रकारों द्वारा शुरू कि‍ये गये इस प्रोजेक्‍ट को भवि‍ष्‍य में और भी परि‍ष्‍कृत रूप देना हमारे लक्ष्‍यों में से एक है।