नारस। सर्किट हॉउस पहुंचे योगी सरकार के कैबिनेट मिनिस्टर ओम प्रकाश राजभर ने अखिलेश यादव का जहां समर्थन किया वहीं उन्होंने अमर सिंह को जनता का रुख मोड़ने वाला नेता बताया। उन्होंने अखिलेश यादव से सरकार द्वारा 10 लाख की रिकवरी पर अखिलेश का बचाव करते हुए कहा कि हम अगर सर्किट हॉउस से जायें और आप दस दिन बाद जांच करके हमें नोटिस भेजें तो हम उसके कैसे ज़िम्मेदार। वहीं भाजपा के सहयोगी पार्टी के नेता और काबीना मंत्री ने आरक्षण आबादी के हिसाब से किये जाने की भी मांग की।

अखिलेश का किया बचाव
वाराणसी पहुंचे योगी सरकार के कैबिनेट मिनिस्टर ओम प्रकाश राजभर ने एक बार फिर सूबे की सियासत को गरमा दिया है। सर्किट हॉउस में सुबह सवेरे मीडिया के सवालों का जवाब देते हुए अखिलेश यादव द्वारा मुख्यमंत्री रहते हुए अपने आवास में तोड़ फोड़ के बाद सरकार के द्वारा 10 लाख की रिकवरी के सवाल पर पूर्व मुख्यमंत्री और सपा प्रमुख अखिलेश यादव का बचाव करते हुए उन्होंने कहा कि ‘प्लास्टिक की टोटी 25 रूपये की और स्टील की 250 रूपये की बाज़ार में मिलती है, अगर उस बंगले में 10 भी टूटा होगा तब भी 10 लाख रूपये का नहीं होगा।

विज्ञापन

15 दिन बाद कैसी जांच
उन्होंने कहा कि जब भी हम या कोई सरकारी आवास में रुकता है तो जाने के बाद जांच होती है। कही कोई कुण्डी लेकर या जग या तौलिया लेकर तो नहीं भागा। जांच उसी दिन होनी चाहिए अब अगर 15 दिन बाद आप हमें नोटिस भेजिए कि आप ये लेकर गए को रिकवरी के लिए पैसे भरने होंगे तो 15 दिन बाद हम कैसे ज़िम्मेदार होंगे इसके।

अमर बदल सकते हैं माहौल
ओमप्रकाश राजभर ने पूर्व में मुलायम सिंह यादव और समाजवादी पार्टी के करीबी रहे अमर सिंह को माहौल बदलने वाला बताया। अमर सिंह के अंदर वो हैसियत है कि वो माहौल को अपनी तरफ मोड़ लेते हैं। उन्होंने ही सपा को खड़ा किया पर सपा के बड़े लोग उन्हें समझ नहीं पाए। वहीं अमर सिंह के भाजपा की तरफ रुझान पर उन्होंने कहा कि इसमें कुछ कहा नहीं जा सकता।

आबादी के आधार पर हो आरक्षण
आरक्षण के मुद्दे पर एक बार फिर योगी के मंत्री ने एक नयी बहस छेड़ दी। उन्होंने कहा कि एससीएसटी का जो फैसला सुप्रीम कोर्ट में फैसला लोकसभा में यथावत रखा गया जो पहले से उसे ही लागू करने की बात है। हमारी मांग है कि आबादी के हिसाब से लोकसभा में आरक्षण बिल पास किया जाये। पिछड़े समाज की आबादी देश में 54 प्रतिशत है। इस हिसाब से पिछड़ों को 54 प्रतिशत आरक्षण मिलना चाहिए और इसी हिसाब से आरक्षण का बिल पास होना चाहिए।

तीन कैटेगरी में मिले आरक्षण
कैबिनेट मिनिस्टर ओमप्रकाश राजभर ने कहा कि आबादी के आधार पर होने वाले आरक्षण में भी तीन कैटगिरियां होनी चाहिए। पिछड़ा, अति पिछड़ा और सर्वाधिक पिछड़ा। उन्होंने कहा कि भाजपा के राष्‍ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने कहा है कि 27 प्रतिशत आरक्षण का विभाजन चुनाव के 6 महीने करेंगे। इसके लिए प्रदेश में 2 मई को एक कमेटी भी बनी जिसका समय पूरा हो गया लेकिन जो आयोग गठित हुआ वो दफ्तर ही ठीक कराता रह गया एक इंच भी बात आगे नहीं बढ़ी। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री को इसमें पहल करनी होगी।

एससीएसटी एक्ट में न फसे कोई निर्दोष
वहीं लगातार आम जनता पर लग रहे एससीएसटी एक्ट पर बोलते हुए मंत्री ओमप्रकाश राजभर ने कहा कि ऐसा न हो की किसी की अदावत में किसी के ऊपर एससीएसटी एक्ट लगे। ऐसे मुकदमों में 95 प्रतिशत निर्दोषों का नाम आ जाता है। मायावती के ज़माने में इसका खूब दुरुपयोग हुआ जिसके देना पड़ा की सीओ स्तर पर जांच के बाद ही मुकदमा दर्ज होगा, तब इन मुकदमों में कमी आयी।

घुसपैठ का ममला सेना का
बांग्लादेशी घुसपैठियों के सवाल पर उन्होंने दू टूक कहा कि बांग्लादेश से घुसपैठ का मसला केंद्र सरकार का है और उसका है जिसके अधीन सेना है। हमसे या प्रदेश सरकार से उससे क्या मतलब। वहीं शराबबंदी पर कहा कि यह हमारा लक्ष्य है कि पूरे प्रदेश में शराब बंद हो यह हमारा लक्ष्य है और इस लक्ष्ण को हम पाकर ही रहेंगे।

विज्ञापन
Loading...