नारस।  अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद काशी महानगर इकाई द्वारा बंगाल में शांतिपूर्वक आंदोलन कर रहे छात्रों की पुलिस द्वारा की गयी हत्या के विरोध में ममता बनर्जी का प्रतीकात्मक पुतला फूंका गया।

विज्ञापन

ज्ञात हो कि पश्चिम बंगाल में  अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद   के दो कार्यकर्ता राजेश सरकार व तपेश बर्मन की ममता सरकार की पुलिस द्वारा निर्ममता से हत्या कर दी गयी क्योंकि उन्होंने बंगाल में बंगाली शिक्षकों की नियुक्ति के लिए आवाज बुलंद की थी।


ममता के सरकार को बर्खास्त करें सरकार 
महानगर सहमंत्री अंशुमान बरनवाल ने कहा कि ममता राज में संकीर्ण विचारों के विरोध में प्रदर्शन करना इतना बड़ा गुनाह है कि सजा मौत हो। हम केंद्र सरकार से मांग करते हैं कि पश्चिम बंगाल में जंगलराज कायम हो गया है अतः ममता सरकार को बर्खाश्त कर राष्ट्रपति शासन की घोषणा करें।

वही इकाई मंत्री अश्वनी जायसवाल ने बताया कि क्या छात्रहित में आवाज उठाना बंगाल में गुनाह है जो ममता सरकार गोलियों से जवाब दे रही है।

इस दौरान आशीष कुमार आशु,आशीष सिंह चन्देल,रजनीश चौरसिया,पीयूष दत्त पाण्डेय, अश्वनी सिंह,अमित यादव,विकास पटेल,राजमंगल पाण्डेय,शिवम शाह,अंशु कुमार मिश्रा,प्रीत सौरभ मिश्रा,विनय मौर्या,शुभम सेठ,गजेंद्र सिंह,शानू चक्रवाल,यश दुबे,शुभम प्रजापति,राहुल जायसवाल,शुभेंदु उपाध्याय,आयुष श्रीवास्तव,रुद्र प्रकाश,राहुल रौनी आदि सैकड़ो छात्र- छात्राएं व कार्यकर्ता उपस्थित रहे।

विज्ञापन
Loading...