BHU बवाल की पहली बरसी पर फि‍र गरमाया कैम्‍पस, सड़क पर उतरीं छात्राएं, मचा हड़कंप

नारस। एक साल पहले 23 सि‍तम्‍बर 2017 को छेड़खानी के वि‍रोध में सिंह द्वार पर छात्राओं का जबरदस्‍त धरना प्रदर्शन हुआ था, जि‍सके बाद हुई छात्राओं की पि‍टाई और फि‍र भड़के उपद्रव से पूरा देश सन्‍न रह गया। वहीं इस घटना की पहली बरसी पर वि‍श्‍ववि‍द्यालय में छात्र-छात्राओं का एक गुट आंदोलन की पहली वर्षगांठ मना रहा था, जि‍से छात्रों के दूसरे गुट के वि‍रोध का सामना करना पड़ा।

लाठीर्चाज का लगाया आरोप
वहीं मौके पर मौजूद बीएचयू के सुरक्षाकर्मि‍यों ने कि‍सी तरह लाठी भांजकर टकराव से पहले ही छात्र-छात्राओं को ति‍तर-बि‍तर कर दि‍या। इस बात से खफा हॉस्‍टल की छात्राओं ने महि‍ला महावि‍द्यालय के गेट पर दुबारा हंगामा शुरू कर दि‍या है। एक गुट की छात्राओं का आरोप है कि‍ सुरक्षाकर्मि‍यों ने उनके ऊपर लाठीचार्ज कि‍या है, जबकि‍ इसी गुट की एक अन्‍य छात्रा ने इसका खंडन कि‍या है।

विज्ञापन

दूसरे गुट ने लगाया जयश्रीराम का नारा
इस संबंध में नाराज छात्रा मनीषा रॉय ने बताया कि‍ बीएचयू में पि‍छले साल हुए घटनाक्रम को लेकर आज हम छात्र-छात्राओं का एक दल ओपन माइक और नुक्‍कड़ नाटक के जरि‍ये हमारे छात्र आंदोलन के पहले वर्षगांठ के रूप सेलीब्रेट कर रहा था। इतने में कुछ छात्रों का एक गुट आया, जो जय श्रीराम के नारे लगा रहा था। साथ ही ये नारे भी लगाये जा रहे थे कि‍ जो वंदेमातरम नहीं गायेगा वो भारत में नहीं रहेगा।

छात्राओं का आरोप, लड़कों ने कि‍ये भद्दे कमेंट
मनीषा रॉय का आरोप है कि‍ छात्रों के उस दल में शामि‍ल लड़के हमारे दल में शामि‍ल लड़कों को भद्दी-भद्दी बात कहने लगे। जि‍सके बाद दोनों गुटों के लड़के आमने-सामने हो गये। हालांकि‍ मनीषा ने इस बात से इनकार कि‍या कि‍ लड़कि‍यों पर लाठीचार्ज हुआ है। मनीषा के अनुसार सुरक्षाकर्मि‍यों ने दोनों गुटों को ति‍तर-बि‍तर करने के लि‍ये लाठि‍यां भांजी हैं, कि‍सी लड़की पर लाठीचार्ज नहीं हुआ है।

समझाने पहुंची चीफ प्रॉक्‍टर
इधर मामला बढ़ता देख बीएचयू की चीफ प्रॉक्‍टर प्रो रॉयना सिंह भी महि‍ला महावि‍द्यालय के गेट पर पहुंच गयीं। आक्रोशि‍त छात्राओं ने बीएचयू के सुरक्षाकर्मि‍यों पर आरोप मढ़ा कि‍ उनके ऊपर लाठीचार्ज कि‍या गया है, जि‍से चीफ प्रॉक्‍टर ने ये कहकर खारि‍ज कर दि‍या कि‍ इस तरह का झूठा आरोप न लगाया जाये।

लगे मुर्दाबाद के नारे
काफी देरतक समझाने-बुझाने के बावजूद जब छात्राएं नहीं मानीं तो चीफ प्रॉक्‍टर वहां से हट गयीं। इसके बाद आक्रोशि‍त छात्राएं एमएमवी गेट पर काफी देरतक बीएचयू प्रशासन मुर्दाबाद के नारे लगाये और आखि‍र में प्रॉक्‍टोरि‍यल बोर्ड के सदस्‍यों के आग्रह पर वापस हॉस्‍टल में चली गयीं।

देखें वीडि‍यो

विज्ञापन