नारस। बीते दिनों सोशल मीडिया पर मिर्जामुराद थाने के कारखास सिपाही हैदर द्वारा पशु तस्करों से उनकी गाडी छुड़वाने के नाम पर पैसे के लेन देन की ऑडियो क्लिप वायरल हुई थी। इसके बाद आला अधिकारियों ने इस मामले में संज्ञान लेते हुए थानाध्यक्ष मिर्जामुराद विश्वजीत प्रताप सिंह और कांस्टेबल हैदर को लाइन हाज़िर कर जांच कैंट सीओ को सौंपी थी। इस जांच में दोषी पाए जाने के बाद शुक्रवार को एसएसपी ने भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत कांस्टेबल हैदर को जेल भेज दिया। इस बात से पुलिसकर्मियों में हडकम्प मचा हुआ है।

जानकारों की माने तो जांच के दायरे में अभी ने पुलिसकर्मी भी आ सकते हैं। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने साफ़ किया था कि जो भी इस खेल में लिप्त होगा उसके विरुद्ध सख्त कार्रवाई होगी और सीओ किंत के जांच रिपोर्ट सौंपते ही यह कार्रवाई की गयी है।

विज्ञापन

गौरतलब है कि बीते शनिवार को मिर्जामुराद पुलिस ने मवेशियों से भरा दो ट्रक पकड़ा था। बाद में इन ट्रकों को छुड़ाने के लिए मिर्जामुराद थाने पर तैनात सिपाही आफाक हैदर अली के साथ पशु तस्करों की बातचीत की आडियो क्लिप सोशल मीडिया पर वायरल हो गयी थी। इसपर संज्ञान लेते हुए एसएसपी सुरेश राव आनंद कुलकर्णी ने थानाध्यक्ष मिर्जामुराद और कांस्टेबल हैदर को लाइन हाज़िर कर दिया था।

शुक्रवार को एसएसपी कार्यालय से जारी प्रेस नोट के मुताबिक़ मिर्जामुराद पुलिस ने मुखबिर की सूचना में मुकदमे में वांछित चल रहे कांस्टेबल आफाक हैदर अली को साधू की कुटिया इलाके से गिरफ्तार कर सम्बंधित मामले में जेल भेज दियाहै।

विज्ञापन
Loading...
www.livevns.in का उद्देश्‍य अपनी खबरों के माध्‍यम से वाराणसी की जनता को सूचना देना, शि‍क्षि‍त करना, मनोरंजन करना और देश व समाज हित के प्रति जागरूक करना है। हम (www.livevns.in) ना तो कि‍सी राजनीति‍क शरण में कार्य करते हैं और ना ही हमारे कंटेंट के लिए कि‍सी व्‍यापारि‍क/राजनीतिक संगठन से कि‍सी भी प्रकार का फंड हमें मि‍लता है। वाराणसी जिले के कुछ युवा पत्रकारों द्वारा शुरू कि‍ये गये इस प्रोजेक्‍ट को भवि‍ष्‍य में और भी परि‍ष्‍कृत रूप देना हमारे लक्ष्‍यों में से एक है।