तनुश्री मामले पर बोले रवि किशन, बॉलीवुड में मर्जी के बगैर कोई किसी के शरीर को छू भी नही सकता

नारस । अपनी फिल्म सनकी दरोगा के प्रीमियम के लिए वाराणसी आये फ़िल्म अभिनेता रविकिशन ने नाना पाटेकर, राम मंदिर मुद्दे और लखनऊ विवेक तिवारी हत्याकांड पर मीडिया से बेबाक बात की।

तनुश्री दत्ता और नाना पाटेकर विवाद पर बोलते हुए उन्होंने कहा कि उनके साथ या किसी भी लड़की के साथ मेरी बेटी के साथ या मेरी पत्नी के साथ या किसी की मां के साथ, किसी की बहन के साथ कोई अपमान जनक घटना होती है तो डेफिनेटली मैं विरोध करूँगा। मैं उसके स्पोर्ट में नही हूँ वो चाहे मेरे मित्र क्यो न हो, मेरा भाई क्यो न हो या मेरा सगा बाप क्यो न हो? तो अगर उस लड़की के साथ गलत हुआ है तो ये बहुत बड़ा पाप है।

उन्होंने कहा कि सिनेमा इंडस्टी एक ऐसी जगह है जहां पर मनमानी किसी की नही चलती। सिनेमा जगत एक ऐसी पवित्र जगह है जहां पर कोई किसी का बलात्कार या किसी के मन के बगैर उसके शरीर को छू नही सकता।

रविकिशन के अनुसार वो तनुश्री दत्ता ही नही इस देश की उस हर लड़की के साथ हैं, जिसके साथ कोई भी दुर्व्यवहार हो रहा है, गलत हो रहा है, या उसका अपमान किया जा रहा है। मैं देश की उन सारी लड़कियों के साथ हूँ जिसके साथ किसी ने भी  कभी गलत किया या उसका अपमान किया या उसको नीचा दिखया या उसके शरीर को छूने की कोशिश की उसके मन के बगैर। सनकी दरोगा उसी के खिलाफ एक फ़िल्म है।

रवि किशन ने कहा कि अगर आप फ़िल्म देखेंगे तो वो बलात्कार के खिलाफ एक फ़िल्म है, जहाँ हीरोइन के साथ विलेन्स लोगो ने गलत काम किया और फिर बाद में मैंने कैसे उन्हें सजा दी।

राम मंदिर के मुद्दे पर बोलते हुए रवि किशन ने उसका समर्थन किया। उन्होंने भोजपुरी में ही कहा,
“हमार घर एक दम भीतरे काहे न बा, हम बाबू उही घर बनाइब, मिट्टी का घर तोड़े, वही पर आज बंगला बनवाये, क्योकि मेरे पुरखो की जमीन थी, उसी जमीन पर मैंने घर बनवाया, तो जहाँ भगवान श्रीराम चन्द्र जन्म लिए थे, तो भाई वहां तो उनका स्थान होगा न, मैं जहां जन्म लिया हूँ वहां झंडा तो लगाकर रखूंगा न।