ना दादागीरी, ना भाईगीरी, बनारस में अब होगी ‘काशीगीरी’, प्रशासन ने की तैयारी

नारस। औघड़दानी भोले-भंडारी की अलमस्‍त नगरी में लोगों की जीवनशैली दुनियाभर के लिये ईर्ष्‍या का विषय हो सकती है। मस्‍त मलंग लाइफ स्‍टाइल जिंदगी जीने वाले बनारसियों का मन घर की दहलीज के भीतर कम सड़क, बाजार, चौक-चौराहों और पान-खोमचे वालों के यहां ज्‍यादा रमता है। अपनी पसंदीदा अड़ियों पर बैठे-बैठे ही अमेरिका से लेकर जापान तक की प्रॉब्‍लम बातों से ही सॉल्‍व कर देने वाले इसी बनारसीपन को जनवरी में वाराणसी पधार रहे प्रवासी भी जीते नजर आएंगे।

‘काशीगीरी’ करेंगे प्रवासी भारतीय
21 से 23 जनवरी को वाराणसी में आयोजित होने जा रहे मेगा कार्यक्रम प्रवासी भारतीय दिवस को लेकर बनारस का प्रशासनिक अमला पूरे जी-जान से जुटा हुआ है। जहां एक तरफ ट्रेड फैसिलिटेशन सेंटर में प्रवासी भारतियों को बनारस और पूर्वांचल सहित देशभर के लजीज व्‍यंजनों का स्‍वाद चखने को मिलेगा तो वहीं वाराणसी के घाटों के आस-पास उन्‍हें यहां की स्‍वादिष्‍ट स्‍ट्रीट फूड से लुभाया जाएगा। भारतवंशी मेहमानों को प्रदान की जाने वाली इस अनुभूति को ‘काशीगीरी’ का नाम दिया गया है।

विज्ञापन

टीएफसी में मिलेगा पूरे भारत के लजीज व्‍यंजन
वाराणसी के सीडीओ गौरांग राठी ने Live VNS से विशेष बातचीत के दौरान बताया कि प्रवासी भारतीय दिवस के दौरान ट्रेड फैसिलिटेशन सेंटर में पूरे भारत के एक से बढ़कर एक खान-पान के आइटम्‍स का प्रेजेंटेशन होगा। मुख्‍य विकास अधिकारी के अनुसार इसमें काशी को भी पूरा स्‍थान मिलेगा। चाहे यहां कि मिठाइयां हों या दाल बाटी वगैरह, जितने भी हमारे पूर्वांचल क्षेत्र से रिलेटेड व्‍यंजन हैं वो ट्रेड फैसिलिटेशन सेंटर में मौजूद रहेंगे।

मुख्‍य विकास अधिकारी गौरांग राठी के अनुसार, ”इसके अलावा काशीगीरी करके हमने एक कॉन्‍सेप्‍ट अलग कॉन्‍सेप्‍ट तैयार किया है, जिसमें हमारा जो स्‍ट्रीट फूड है, जोकि पूरी दुनिया में बहुत प्रसिद्ध है, उसे शामिल किया गया है। यहां अलग अलग प्रकार की चाट मिलती है, उनको प्रोजेक्‍ट करने के लिये घाट के आस-पास के इलाकों में एक फेस्‍टिवल करने का आयोजन किया है। इसमें ऐसे फूड स्‍टॉल भी शामिल होंगे, जो छोटे स्‍तर पर ही सही शहर के विभिन्‍न हिस्‍सों में लगते हैं, ऐसे स्‍ट्रीट फूड वेंडरों को भी मौका दिया जाएगा।

खान-पान के अलावा और भी आकर्षण
इसके अलावा स्‍ट्रीट गेम्‍स भी होंगे। साथ में एरोबिक्‍स, म्‍यूजिक इस तरह के आयोजन रहेंगे जिसमें बनारस के खान-पान को भी प्राथमिकता दी जाएगी। प्रवासी भारतीय दिवस आते आते इसके इतनी बार रन थ्रू हो जाएंगे तो हमारे पास जो बेस्‍ट प्रोजेक्‍शन का स्‍कोप है वो निकलकर सामने आ जाएगा।

देखें वीडियो, Live VNS से विशेष बातचीत में क्‍या बोले वाराणसी के सीडीओ गौरांग राठी

विज्ञापन