वरुणा कॉरीडोर के काम में लगी JCB चुराने वाले धराये, सिनेमा हॉल में छिपा के ढूंढ रहे थे खरीददार

प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर

नारस। प्रदेश सरकार के ड्रीम प्रोजेक्‍ट वरुणा कॉरीडोर में लगी जेसीबी मशीन को चुराने वाले आखिरकार पुलिस के हत्‍थे चढ़़ ही गये। कैण्ट पुलिस द्वारा बुधवार को दो शातिर चोरों को गिरफ्तार किया गया है।

पकड़े गये चोरों के से पुलिस ने एक जेसीबी और एक अपाचे बाइक बरामद किया है। पुलिस के अनुसार वरुणा कॉरीडोर के काम में लगी जेसीबी को सितम्‍बर महीने में वरुणा पुल के पास से चुराया गया था।

मुक़दमा अपराध संख्या 1022/2018 धारा 379 आईपीसी में दर्ज रिपोर्ट के वांछित दो अभियुक्‍तों को कैंट पुलिस ने बुधवार को जेपी मेहता स्‍कूल के पास से दबोच लिया। एसएसपी के निर्देश पर जिले में चलाये जा रहे वांछित ईनामिया तस्कर, चैन स्नेचर व चोरों के गिरोह के खिलाफ अभियान के क्रम में दो शातिर चोरों की गिरफ्तारी हो सकी है।

पकड़े गए अभियुक्तों में गोलू सोनकर, निवासी सुदामापुर, थाना भेलूपुर और महेन्द्र सेठ, निवासी सरायननंद खोजवा, थाना भेलूपुर के रहने वाले हैं

पकड़े गए अभियुक्तों ने पूछताछ में बताया कि हम लोगों का एक संगठित गिरोह है, जिसका सरगना तनिष्क सिंह उर्फ वैभव सिंह है। हम लोगों के द्वारा वरूणा कॉरिडार में कार्यरत जेसीबी लोडर मशीन को माह सितम्बर में शास्त्री घाट के बगल से वरूणा कॉरिडोर से सुनियोजित तरिके से चुरा लिया गया था।

अभियुक्‍तों के अनुसार जेसीबी को बेचने के लिये खोजवां के बंद हो चुके कुसम पैलेस (सिनेमा हॉल) छिपा के रखा गया था। इस जेसीबी के खरीददार की तलाश हो ही रही थी और इसी सिलसिले में शिवपुर जा रहे थे कि पुलिस टीम द्वारा दोनों चोरों को मुखबिर की सूचना पर धर दबोचा गया।

दोनों शातिर चोरों की गिरफ्तारी करने वाली टीम में प्रभारी निरीक्षक विनोद कुमार राय, उप निरीक्षक मनोज कुमार, उप निरीक्षक संजीत बहादुर सिंह, उप निरीक्षक अशोक कुमार, कॉन्स्टेबल रामानन्द यादव, कॉन्स्टेबल धर्मदेव चौहान, कॉन्स्टेबल संतोष शाह, कॉन्स्टेबल दीपक सिंह, कॉन्स्टेबल अतिउल्ला खान थाना कैण्ट शामिल रहे।