6 दिसम्‍बर को सुंदरपुर से लंका तक लहराये गये थे प्रतिबंधित हथियार, अब गरमायी सियासत

एसपी सिटी से शिकायत करते कोंग्रेसी

नारस। बाबरी विध्वंस की बरसी पर वाराणसी के महत्वपूर्ण इलाके सुंदरपुर से लंका तक खुलेआम हाथों में धारदार हथियार लहराये गये थे। इनमे तलवार, भाला एवं बंदूकों को हवा में लहराकर प्रदर्शन किया गया था। अब इस मामले ने तूल पकड़ना शुरू कर दिया है। वाराणसी कांग्रेस ने पूरे मामले को लेकर अपनी नाराजगी जाहिर करते हुए शुक्रवार को इसकी शिकायत एसपी सिटी और एडीएम से मिलकर की है।

ज्ञात है की 6 दिसंबर को कई संगठनों द्वारा जिसमे आरएसएस, वीएचपी, बजरंगदल ने शौर्य दिवस के रूप में मनाया था। इसमें वाराणसी के प्रमुख इलाके, जिनमे सुंदरपुर से लेकर लंका तक के रास्ते में गैरकानूनी तरीके से खुलेआम सड़कों पर प्रतिबंधित धारदार शस्त्रों को लहराया गया था।

विज्ञापन

कांग्रेस ने की गिरफ्तारी की मांग
इस मामले को लेकर कांग्रेसजनों ने ऐसे तत्‍वों को तत्काल गिरफ्तार करने की मांग करते हुए कहा कि बनारस के इतिहास में यह अपने आप में एक बेहद दु:साहसिक आपराधिक कृत्य है। धार्मिक पर्वों को छोड़ दिया जाय तो ऐसा कभी भी खुलेआम नही हुआ था। यह एक सोची समझी साजिश है।

गंगा जमुनी तहजीब होगी ख़राब
कांग्रेस नेताओं ने आरोप लगाया कि ऐसी घटनाओं से आम जनता में पुलिस-प्रसाशन के प्रति विश्वास कम होगा, जोकि कहीं से भी सही नही कहा जा सकता। इससे बनारस की गंगा-जमुनी तहज़ीब खराब होगी। सामाजिक और धार्मिक ताना-बाना ख़राब होगा।

कबीर बुद्ध की भूमि है काशी
बनारस कबीर, बुद्ध की नगरी है। यहां कि आम जनता बिना किसी धार्मिक भेद-भाव के अमन-चैन से रहती है। इस तरह की आपराधिक सोच और कृत्यों से जनता में डर और खौफ़ का माहौल पनपेगा। अतः जिला प्रसाशन को तत्काल दोषियों को पकड़ कर उनके ख़िलाफ़ सख्त से सख्त कार्रवाई करनी चाहिए।

वाराणसी कांग्रेस के इस शिष्टमंडल में जिला एवं महानगर कांग्रेस अध्यक्ष प्रजानाथ शर्मा, सीताराम केसरी, पूर्व विधायक अजय राय, डॉ. अनिल उपाध्याय, वीरेंद्र कपूर, शैलेन्द्र सिंह, देवेंद्र सिंह, वीरेंद्र कपूर, राकेश चंद्र, राघवेंद्र चौबे, डॉ. नृपेन्द्र नारायण सिंह, रोहित दूबे, ओम शुक्ला, चंचल शर्मा, किसलय सिंह , किशन यादव समेत बड़ी संख्या में वाराणसी कांग्रेस के पदाधिकारीगण उपस्थित रहे।

विज्ञापन