मिर्जामुराद में बेटियों ने जेंडर समानता को लेकर निकाली रैली, गांव में शराब बंदी को लेकर उठाया आवाज 

नारस। मिर्जामुराद में  लोक समिति वाराणसी और आशा ट्रस्ट के संयुक्त तत्वाधान में करधना भतपुरवां  गांव में शुक्रवार को गांव की दर्जनों बहादुर बेटियों  नेजेंडर असमानता कन्या भ्रूण हत्या,यौन उत्पीड़न, दहेज़, बाल विवाह आदि के खिलाफ गाजे बाजे के साथ गांव में जोरदार रैली निकाली।

रैली में लगे जोरदार नारे 
रैली में शामिल लड़कियां तिलक दहेज़ छोडो जाती पाती तोड़ो,भीख नही अधिकार चाहिए जीने का सम्मान चाहिए,औरत भी जिन्दा इंसान नही भोग की वह सामान,कन्या भ्रूण हत्या बंद करो आदि जोरदार नारे लगाये।

विज्ञापन

जुए और शराब बंद करने का किया अपील

इस अवसर पर लड़कियों ने बालिका अधिकार पर  सांस्कृतिक कार्यक्रम किया, नाटक के माध्यम से गांव  में हो रहे जुए और शराब  को बंद करने की अपील भी किया।

इस अवसर पर लोक समिति संयोजक नंदलाल मास्टर ने कहा कि गांवो  में किशोरी लड़कियों की दशा चिंतनीय है लड़को और लड़कियों में अभी भी भेदभाव किया जाता है और पढ़ने में अच्छा होने के बावजूद बहुत से लड़कियों की पढाई छुड़ाकर कम उम्र में उनकी शादी करा दी जाती।  और जिससे उसके सेहत पर बहुत बुरा प्रभाव पड़ता है।

वही  सामाजिक कार्यकर्ता सरिता और अनीता पटेल ने  कहा कि आज घर में ही लड़कियां सुरक्षित नही है, इसलिए लड़कियों को घरेलु यौन उत्पीड़न व यौन हिंसा के बारे में जागरूक करने की जरुरत है।

कार्यक्रम की अध्यक्षता सरिता  और संचालन राजकुमारी पटेल  ने और धन्यवाद ज्ञापन अनीता ने किया। कार्यक्रम में मुख्य रूप से ,सरिता,अनीता,सोनी,रामबचन, बदामा आरती कलावती मीरा नगीना रिंका पूजा संध्या प्रियंका सरिता सिवानी कुसुम रानी आदि लोग शामिल रहे।

विज्ञापन