वाराणसी पुलिस के एक और ‘हैदर’ को SSP ने किया निलंबित, STF ने पकड़ी संलिप्तता

0
67

नारस। पशु तस्करों की गिरफ्तारी में लगी वाराणसी पुलिस को अक्सर ये पशु तस्कर गच्चा देने का काम करते हैं। ये पशु तस्कर विभागीय मिलीभगत से ऐसा बहुत आसानी से कर लेते हैं। ऐसे ही एक मामले में एसएसपी सुरेश राव आनंद कुलकर्णीं ने थाना कैंट पर तैनात आरक्षी अतिउल्लाह खां को पशु तस्करों का सहयोग करने, पैसा लेने और पैसा विभागीय अधिकारियों को पहुंचाने के आरोप में निलंबित कर दिया है।

ऐसे ही एक पशु तस्करी के मामले में वाराणसी के मिर्जामुराद थानेपर तैनात सिपाही अफाक हैदर अली की संलिप्तता पर सितम्बर माह में एसएसपी ने निलंबित किया था।

एसएसपी कार्यालय से जारी विज्ञप्ति के अनुसार एसएसपी आनंद कुलकर्णी ने कैंट थाने के सिपाही अतिउल्ला खां को मंगलवार को निलंबित कर दिया। आरक्षी अतिउल्लाह खां के ऊपर पशु तस्करों का सहयोग करने के साथ ही पैसा लेना और विभाग के अधिकारियों को पैसा पहुंचाने का आरोप लगा है। एक नवंबर 2018 को एसटीएफ की टीम द्वारा गौ मांस का अवैध व्यापार करने वाले गिरोह का पर्दाफाश किया गया था, जिसमें अभियुक्त मोहम्मद आसिफ इलाही समेत कुल 5 पशु तस्कर गिरफ्तार किए गए थे।

मै हैदर बोल रहा हूं, कहना पड़ा महंगा, मिर्जामुराद थाने के इस सिपाही को SSP ने भेजा जेल

एसटीएफ द्वारा अभियुक्तों से पूछताछ और उनके गिरोह की जानकारी एकत्रित करने के दौरान पता चला कि अतिउल्ला खां प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष तरीके से गौ-तस्करों को सहयोग करता है। इसके एवज में पशु तस्करों के द्वारा उसे पैसा दिया जाता था। अतिउल्लाह पैसा केवल अपने पास ही नहीं रखता था बल्कि विभाग के कुछ अन्य पुलिसकर्मियों तक उसे पहुंचाने का काम भी करता था।

इस सम्बन्ध में कड़ा रुख अपनाते हुए पुलिस विभाग की छवि धूमिल करने के साथ ही अन्य मामलों में आरक्षी अतिउल्लाह को दोषी पाए जाने पर एसएसपी आनंद कुलकर्णी ने आरक्षी को निलंबित कर दिया। अतिउल्लाह के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर विभागीय कार्रवाई करने का आदेश भी दिया गया है।