नारस। फिल्म थ्री इडियट के प्रमोशन के लिए बहरूपिया बनकर वाराणसी पहुंचे बॉलीवुड के सुपर स्टार आमिर खान के लिये तब ‘सारथी’ बने ऑटो चालक राम लखन इन दिनों बीमार चल रहे हैं। ऐसे में उनके इलाज के लिए उनके बेटे ने ब्याज और क़र्ज़ लिया है।

वहीं अपने दोस्‍त की नाज़ुक तबियत और आर्थिक तंगी की बात सुनकर इस समय चीन में मौजूद अभिनेता आमिर खान भी परेशान हो गये हैं। उन्होंने रामलखन का हाल चाल लेने के बाद अपनी पीआर सेल को इलाज के खर्च की सारी डिटेल मंगवाने को कही है।

विज्ञापन

गौरतलब है कि साल 2009 की 13 अप्रैल को आमिर खान जब बहरूपिया बन वाराणसी पहुंचे थे तो उनका साथ दिया था टम्पो चालक रामलखन ने। रामलखन उनके सारथी बनकर उन्हें पूरे बनारस और मुग़लसराय तक लेकर घूमे थे। इसके बाद आमिर खान रामलखन के बेटे की शादी में शामिल होने काशी आये थे।

इस समबन्ध में ऑटो चालक रामलखन के बेटे राजीव ने बताया कि पिता जी पिछले कुछ दिनों से लिवर इंफेक्शन से ग्रसित हैं। उनका इलाज बनारस के चांदपुर इलाके में एक अस्पताल में चल रहा था। उन्हें अब अस्पताल से छुट्टी मिल गयी है, लेकिन इस इलाज में लगभग 5 लाख रुपये का खर्चा आया है। इसके अलवा कुछ पैसा ब्याज पर भी लेना पडा है।

राजीव ने बताया कि इस सम्बन्ध में हमने आमिर खान के पीआर सेल के मेल पर जानकारी दी थी। इसके बाद आमिर खान ने पिता जी की हालचाल लिया। वहीं राजीव ने बताया कि इस मेल पर पीआर सेल की तरफ से फोन आया है और पिता जी के इलाज के पूरे खर्च का ब्योरा मांगा गया है। वहीं राजीव ने बताया कि इस समय आमिर खान चाइना में हैं और भारत वापस लौटने पर हमारे गांव पिता जी को देखने आ सकते हैं।

चंदौली के उसरी गांव के रामलखन हास्पिटल से डिस्चार्ज होकर अपने गांव चले गये हैं। आमिर अपने दोस्त के बेटे की शादी में 26 अप्रैल 2012 को शामिल होने काशी आये थे। इतना ही नहीं फिल्म पीके के प्रमोशन के दौरान भी उन्होंने रामलखन के साथ फिल्म का प्रमोशन किया था। रामलखन को आमिर मुंबई भी बुला चुके हैं।

विज्ञापन
Loading...
www.livevns.in का उद्देश्‍य अपनी खबरों के माध्‍यम से वाराणसी की जनता को सूचना देना, शि‍क्षि‍त करना, मनोरंजन करना और देश व समाज हित के प्रति जागरूक करना है। हम (www.livevns.in) ना तो कि‍सी राजनीति‍क शरण में कार्य करते हैं और ना ही हमारे कंटेंट के लिए कि‍सी व्‍यापारि‍क/राजनीतिक संगठन से कि‍सी भी प्रकार का फंड हमें मि‍लता है। वाराणसी जिले के कुछ युवा पत्रकारों द्वारा शुरू कि‍ये गये इस प्रोजेक्‍ट को भवि‍ष्‍य में और भी परि‍ष्‍कृत रूप देना हमारे लक्ष्‍यों में से एक है।