नारस। वाराणसी पुलिस को नव वर्ष पर बड़ी कामयाबी हाथ लगी है। पुलिस और क्राइम ब्रांच की संयुक्त टीम ने सोमवार की रात असलहा तस्करों को गिरफ्तार करने में कामयाबी हासिल की। इनकी निशानदेही पर क्राइम ब्रांच ने इमलिया घाट इलाके में झाड़ियों में छुपाकर रखे निर्मित व अर्धनिर्मित हथियारों का ज़खीरा पकड़ने में सफलता मिली है। पकड़ा गया कुख्यात पिछले 25 वर्षों से असलहा की सप्लाई में लिप्त था।

इस सम्बन्ध में वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक सुरेश राव आनंद कुलकर्णीं ने पुलिस लाइन सभागार में बताया कि जनपद में बीते वर्ष में पकडे गए अपराधियों से मिले असलहों की पूछताछ में यह साफ़ हुआ था कि अदलहाट मिर्ज़ापुर का रहने वाला मिठाई लाल मुंगेर बिहार से असलहा लाकर यहाँ उपलब्ध करवाता है। यह बात संज्ञान में आने के बाद मिठाई लाल की धर पकड़ के लिए पुलिस और क्राइम ब्रांच को निर्देशित किया गया था।

विज्ञापन

उसी क्रम में क्राइम ब्रांच प्रभारी विक्रम सिंह मिठाईलाल की सुरगारशी में लगे हुए थे। जब विक्रम सिंह और प्रभारी निरीक्षक कैंट इंडिया होटल के पास मौजूद थे उसी समय ज़रिये मुखबिर सूचना मिली की मिठाई लाल आज असलहों की खेप लेकर कैंट रेलवे स्टशन पर उतरने वाला है। इस सूचना पर विश्वास करते हुए हम प्लेटफार्म नंबर 9 के स्टैंड की तरफ बढे। मुखबिर की निशानदेही पर क्राइम ब्रांच ने आवश्यक बल का प्रयोग करके मिठाई लाल निवासी भुइलीखास, थाना अदलहाट, जनपद मिर्ज़ापुर को गिरफ्तार कर लिया। मिठाई लाल आज कल सोनातालाब, थाना सारनाथ में रह रहा था।

एसएसपी ने बताया कि उसके पास से एक .32 बोर की रिवाल्वर, दो तमंचा .312 और चार कारतूस बरामद हुए। अभियुक्त ने पूछताछ में बताया कि वह मुंगेर बिहार से लाकर यहां असलहा सप्लाई करता था। खुद भी पहले वहां खराद मशीन पर काम करता था और असलहा बनाता था। मिठाई लाल की निशानदेही पर वरुणा नदी स्थित इमलिया घाट के पास से एक झोले में निर्मित व अर्धनिर्मित तीन तमंचे .12 बोर, पांच तमंचा .312 बोर और शास्त्र बनाने का उपकरण बरामद किया है।

मिठाई लाल पिछले 25 वर्षों से इस कार्य में लिप्त था। उसने बताया कि उसने वाराणसी के कुख्यात अपराधियों को तमंचा सप्लाई किया है। मिठाई लाल ने बताया कि मुंगेर में काम के दौरान चोट लगने के बाद वाराणसी आ गया और यहां तमंचे की सप्लाई करने लगा। उसी दौरान सनी गैंग के करीब आ गया और उन्हें असलहा सप्लाई करने लगा। इसके अलावा मै असलहों की मरम्मत भी करता हूँ अपराधियों के, जिसमे गुड्डू मामा गैंग, आबिद सिद्दीकी गैंग और 40 करोड़ की सोने की लूट का अपराधी फैज़ान मुख्य है।

उक्त कुख्यात असलहा तस्कर को पकड़ने में क्राइम ब्रांच प्रभारी उपनिरीक्षक विक्रम सिंह, उपनिरीक्षक प्रदीप यादव, हेडकांस्टेबल सुमंत सिंह, हेडकांस्टेबल रामभवन यादव, हेडकांस्टेबल पुनदेव सिंह, हेडकांस्टेबल सुरेंद्र मौर्या, हेडकांस्टेबल घनश्याम वर्मा, हेडकांस्टेबल रमेश तिवारी, कांस्टेबल रामबाबू, कांस्टेबल चन्द्रसेन सिंह, कांस्टेबल कुलदीप सिंह व कांस्टेबल चालक सुनील राय सहित सर्विलांस सेल के निरीक्षक राजीव रंजन उपाध्याय, हेडकांस्टेबल श्याम लाला गुप्ता, कांस्टेबल विवेकमणि त्रिपाठी, कांस्टेबल दिवाकर वत्स ने महती भूमिका निभाई।

इसके अलावा कैंट थाने के प्रभारी निरक्षक विजय बहदुर सिंह, उपनिरिक्षक संजीत बहादुर सिंह, हेडकांस्टेबल अनुज सिंह, कांस्टेबल विकास, कांस्टेबल सुनील पांडेय, कांस्टेबल रामानंद यादव और चालक अमरनाथ यादव ने भी योगदान दिया।

विज्ञापन
Loading...
www.livevns.in का उद्देश्‍य अपनी खबरों के माध्‍यम से वाराणसी की जनता को सूचना देना, शि‍क्षि‍त करना, मनोरंजन करना और देश व समाज हित के प्रति जागरूक करना है। हम (www.livevns.in) ना तो कि‍सी राजनीति‍क शरण में कार्य करते हैं और ना ही हमारे कंटेंट के लिए कि‍सी व्‍यापारि‍क/राजनीतिक संगठन से कि‍सी भी प्रकार का फंड हमें मि‍लता है। वाराणसी जिले के कुछ युवा पत्रकारों द्वारा शुरू कि‍ये गये इस प्रोजेक्‍ट को भवि‍ष्‍य में और भी परि‍ष्‍कृत रूप देना हमारे लक्ष्‍यों में से एक है।