नारस। जिलाधिकारी सुरेंद्र कुमार अपनी कार्यशैली को लेकर हमेशा चर्चाओं में बने रहते हैं। तेज़ तर्रार यूपी के बेहद तेज-तर्रार आईएएस अफसरों में शुमार वाराणसी के डीएम अक्‍सर जिले के विभिन्‍न कार्यालयों निरीक्षण करके व्यवस्थाओं का जायजा लेते रहते हैं।

डीएम की इस छापेमारी में कभी पान-गुटखा खाते बाबू पकड़ाते हैं तो कभी चाय पीकर खिड़की से कुल्‍हड़ लोकाते अधिकारियों पर डीएम की नजर पड़ जाती है। वहीं इस बार वाराणसी जलकल विभाग के सबसे बड़े अधिकारी यानी महाप्रबंधक महोदय ही डीएम की चेकिंग के दौरान कार्रवाई की जद में आ गये हैं।

शुक्रवार की दिन में 11 बजे जिलाधिकारी ने जलकल कार्यालय का औचक निरीक्षण करा दिया। इस दौरान वहां बैठने वाले अधिकांश जिम्‍मेदार अफसरों के कमरों में पूरी तरह से सन्‍नाटा पसरा देख हर कमरे की फोटोग्राफी करा ली गयी। चौंकानू वाली बात ये रही कि खुद जनरल मैनेजर बी के सिंह साहब भी 11 बजे तक कार्यालय नहीं पहुंचे थे। इसके बाद जिलाधिकारी ने ली गयी सभी तस्‍वीरों को एक नोटिस के साथ जीएम साहब के पास भेज दिया और उनसे एक दिन के भीतर स्‍पष्‍टीकरण मांग लिया।

समय की पाबंदी में इस कदर लापरवाही देखकर नाराज़ जिलाधिकारी यहीं नहीं रुके बल्‍कि उन्‍होंने जल कल के महाप्रबंधक का एक दिन का वेतन रोकने का आदेश भी मुख्‍य कोषाधिकारी को दे डाला। डीएम सुरेन्‍द्र सिंह द्वारा जिले के एक बडे अधिकारी के खिलाफ की गयी सख्‍त कार्रवाई से वाराणसी के सभी विभागों में खासकर अधिकारी वर्ग में हड़कंप मचा हुआ है।

देखें तस्‍वीरें, डीएम वाराणसी की चेकिंग के दौरान खींची गयी इन तस्‍वीरों में खाली पड़े अधिकारियों के कमरे