प्रतिबंधित चाईनीज़ मांझे की चपेट में आने से दो घायल, धड़ल्ले से हो रही है बिक्री

प्रतीकात्मक चित्र
विज्ञापन

नारस। शासन द्वारा पिछले साल ही प्रतिबंधित किये गए चाइनीज़ मांझे की बिक्री ज़ोर शोर से हो रही है। इससे रोज़ाना कोई न कोई घायल हो रहा है। सोमवार को लगातार दुसरे दिन इस प्रतिबंधित मांझे की चपेट में आने से दो लोग घायल होकर अस्पताल पहुँच गए। इसमें एक एलआइसी एजेंट व एक युवक है।

शासन के प्रतिबन्ध के बाद चाइनीज़ मांझा काशी की गलियों में एक बार फिर नज़र आने लगा है। धड़ल्ले से पतंग विक्रेता इसकी बिक्री कर रहे हैं और पतंगबाज़ भी बिना किसी खौफ के इसका इस्तेमाल कर रहे हैं। चाईनीज़ मांझे से उड़ रही पतंग राह चलने वालों के लिए हादसे का सबब बन रही है।

विज्ञापन

शहर के ककरमत्ता निवासी उषा तिवारी बीएचयू से कमच्छा जाने के दौरान चाईनीज़ मांझे की चपेट में आ गई। जब तक वो कुछ समझ पाती मांझे ने उनके गले को रेत दिया था। उषा ने पास के ही एक निजी चिकित्सक से उपचार करवाया। वहीं बड़ागांव थानांतर्गत हरहुआ- बाबतपुर फ्लाईओवर पर तेज प्रताप सिंह का गाला चाइनीज़ मांझे से कट गया, जिन्हे स्थानीय लोगों से नज़दीक के अस्पताल पहुँचाया।

इससे पहले रविवार को चाइनीज मांझे से हरतीरथ स्थित यमुना टाकीज के समीप पठानी टोला निवासी राहुल सैनी (25) का गला कट गया। घटनास्थल के समीप मौजूद लोग उसे नजदीक स्थित अस्पताल ले गए, जहां उसका उपचार किया गया।

विज्ञापन