नारस। समाजवादी पार्टी ने बुधवार को बनारस में एक अनोखा प्रदर्शन किया है। खनन घोटाले में आईएएस आफिसर बी चंद्रकला के यहां सीबीआई छापे और उसके बाद कथित तौर पर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव का नाम इस प्रकरण में आने को लेकर नाराज़ समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने भारतीय जनता पार्टी के खिलाफ अपने गुस्‍से का इजहार किया है।

बनारस के सपा नेताओं ने सीबीआई को भाजपा का तोता बताते हुए वाराणसी में अनोखे अंदाज में प्रदर्शन किया है। सपा नेता-कार्यकर्ताओं ने सीबीआई को आज़ाद करने के लिए वाराणसी में प्रदर्शन करते हुए तोते को प्रतिकताम्क रूप से पिंजरे से आज़ाद करते हुए मांग की कि केंद्रीय जांच ब्‍यूरो को भी आजाद किया जाए।

देश में अघोषित आपातकाल लगा हुआ है
समाजवादी पार्टी के महानगर अध्यक्ष राजकुमार जायसवाल ने कहा कि देश की संवैधानिक संस्थाएं संकट में हैं। देश में अघोषित आपातकाल लगा हुआ है। देश के अन्दर सीबीआई जैसी सर्वोच्‍च जांच एजेंसी के डायरेक्टर को बंधक बना दिया गया है। देश के हुक्मरान उसे अपने निजी स्वार्थ के लिए इस्तेमाल कर रहे हैं। वो पिंजरे में बंद तोते की तरह हैं, जो उससे कहा जा रहा है वही दोहरा रहा है।

सपा-बसपा गठबंधन से डर गयी है मोदी सरकार
सपा महानगर अध्‍यक्ष राजकुमार जायसवाल के अनुसार पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और मायावती जी के गठबंधन से घबराई भाजपा सरकार ने अब अखिलेश यादव का नाम एक नए मामले में सीबीआईइ द्वारा उछाले जाने का प्रयत्न किया है। पहले बंगले के नाम पर और फिर टोंटी के नाम पर ऐसा पूर्व में भी किया जाता रहा है। मौजूदा केंद्र और भाजपा सरकार इस महागठबंधन से घबरा गयी है और अपनी पिंजरे में बंद तोते सरीखी संस्था सीबीआई से पूर्व मुख्यमंत्री पर आरोप लगवा रही है।

काशी की जनता देगी जवाब
उन्होंने कहा कि समाजवादी विकास, समाजवादी विज़न, समाजवादी न्यायिक यात्रा, चौपाल और नुक्कड़ सभाओं के माध्यम से हमारे राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष पर जो आरोप लगाया जा रहा है हम उसके खिलाफ विरोध प्रदर्शन करेंगे और लोगों को इसका सच बताएँगे। महानगर अध्‍यक्ष ने कहा कि हम बताना चाहते हैं देश और राज्यों की भाजपा सरकार को जनता समझ चुकी है। भाजपा के द्वारा जो कुकृत्य किया जा रहा है उसका जवाब काशी की जनता आगामी चुनाव में देगी।