नारस। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ गुरुवार और शुक्रवार को वाराणसी दौरे हैं। इस दौरान दौरान बाबतपुर एयरपोर्ट सभागार में उन्‍होंने स्वदेश योजना के तहत सारनाथ के विकास के लिये वर्ल्ड बैंक द्वारा भारत सरकार को 53.81 करोड़ की प्रस्तावित परियोजनाओं का विस्तार से प्रेजेंटेशन देखा। प्रजेंटेशन वर्ल्ड बैंक के अधिकारियों ने दिया।

इस अवसर पर केन्द्रीय पर्यटन राज्य मंत्री, उत्तर प्रदेश की पर्यटन मंत्री रीता बहुगुणा जोशी एवं उत्तर प्रदेश के विधि-न्याय, युवा कल्याण, खेल एवं सूचना राज्य मंत्री डॉक्टर नीलकंठ तिवारी प्रमुख रूप से उपस्थित रहे।

आध्‍यात्‍मिकता के साथ सौंदर्यीकरण होगा
प्रस्तावित परियोजनाओं के तहत सारनाथ का आइडियल सिनेरियो के साथ उसकी आध्यात्मिकता को बनाए रखते हुए सौन्दर्यीकरण कराया जाएगा। सारनाथ के धम्मचक्र स्थल के ऐतिहासिक वृक्ष को संरक्षित करने के साथ ही पूरे सारनाथ क्षेत्र के सड़क एवं ड्रेनेज सिस्टम को व्यवस्थित तरीके से विकसित किया जाएगा। इसके अलावा सारनाथ के खुले स्थलों के साथ-साथ मेडिटेशन (ध्यान सेन्टर) भी विकसित किए जाएंगे।

होंगे ये कार्य
सारनाथ स्थित सुहेलदेव तिराहा के सामने पार्किंग, वेडिंग जोन, सारनाथ में बने आधुनिक स्वागत केंद्र को तोड़कर पार्किंग एवं वेडिंग जोन मुनारी मार्ग स्थित बुद्धा थीम पार्क के उपलब्ध जमीन पर पार्किंग, वेडिंग जोन एवं फूड प्लाजा, सारनाथ के सारंग तालाब के पास पानी टंकी के पास वेडिंग जोन तथा सारनाथ रेलवे स्टेशन के बाहर सामने उपलब्ध भूखंड पर वेंडिंग जोन बनाये जाने का प्रस्ताव शामिल हैं।

ऐसे पहुंचेंगे पर्यटक
बताया गया कि वाराणसी के लाल बहादुर शास्त्री हवाई अड्डा पर उतरने के बाद सारनाथ आने वाले पर्यटक को सीधे सारनाथ के बुद्धा थीम पार्क होते हुए डियर पार्क, मूलगंध कुटी एवं धमेक स्तूप तक पहुंचने की कार्ययोजना बनाया गया है। जबकि वाराणसी शहर के तरफ से आने वाले पर्यटकों के वाहनों की पार्किंग सुहेलदेव तिराहा के पास बनने वाले पार्किंग स्थल पर होगी।

सारनाथ पर मोदी सरकार का है फोकस
गौरतलब है कि बुद्धिस्ट सर्किट से संबंधित उत्तर प्रदेश के कुशीनगर, कपिलवस्तु, फर्रुखाबाद स्थित संकिसा, कौशांबी, सारनाथ एवं श्रावस्ती जिला है। भारत सरकार द्वारा उत्तर प्रदेश के सारनाथ एवं कुशीनगर को विशेष तौर पर पर्यटन को बढ़ावा दिए जाने हेतु पर्यटकों को सुविधा मुहैया कराए जाने के उद्देश्य से फोकस किया जा रहा है।

इस अवसर पर उत्तर प्रदेश के अपर मुख्य सचिव सूचना एवं पर्यटन अवनीश कुमार अवस्थी, एडीजीपी पीवी रामाशास्त्री, कमिश्नर दीपक अग्रवाल, जिलाधिकारी सुरेंद्र सिंह, संयुक्त निदेशक पर्यटन अविनाश मिश्रा एवं पर्यटन अधिकारी कीर्तिमान श्रीवास्तव प्रमुख रूप से उपस्थित रहे।