????????????????????????????????????

नारस। पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव का नाम कथित तौर पर बालू खनन मामले में आने के बाद वाराणसी के सपा नेता लगातार विरोध-प्रदर्शन कर रहे हैं। इसी क्रम में गुरुवार को एक बार फिर सपा कार्यकर्ताओं ने अनोखे अंदाज में पिपलानी कटरा पर विरोध प्रदर्शन किया। सपा कार्यकर्ताओं ने सपेरा और सांप के साथ प्रदर्शन किया।

इस प्रदर्शन में सपाइयों द्वारा सपेरे को प्रधानमंत्री और और सीबीआई को सांप बताया गया। सपाइयों का कहना रहा कि जिस तरह सपेरे के बीन पर सांप मदमस्त होकर नाचता है उसी प्रकार सीबीआई भी प्रधानमंत्री के इशारों पर नाच रही है।

विज्ञापन

सड़क पर दो सपेरे और दो पिटारों में सांप लेकर गुरूवार को सपा कार्यकर्ता सडक पर उतरे। ये उनके विरोध करने का नायाब तरीका था। आईएएस आफिसर बी चंद्रकला के ठिकाने पर सीबीआई के छापे के बाद पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव का नाम कथित तौर पर बालू खनन मामले में सामने आने पर आक्रोशित समाजवादी कार्यकर्ताओं ने सड़क पर उतरकर विरोध प्रदर्शन किया है।

सड़क पर पिटारा खोले संपेरा अपनी बीन पर सांप को नाचा रहा था और कार्यकर्ता सरकार और सीबीआई विरोधी नारे लगा रहे थे। इस सम्बन्ध में समाजवादी छात्र सभा के पूर्व अध्यक्ष अविनीश यादव विक्की ने बताया कि समाजवादी पार्टी के पूर्व मुख्यमंत्री के आह्वान पर समाजवादी विज़न, विकास एवं सामजिक न्याय पदयात्रा का आज चौथा दिन है। उसी क्रम में आज हम लोग इस इलाके में जनता के बीच में समाजवादी सरकार के पांच साल के कार्यकाल में किए गए विकास कार्यों के लोकर जा रहे हैं।

इसके अलावा जैसे अखिलेश-मायावती का गठबंधन प्रदेश में हुआ है, उससे डरकर और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की साफ़ छवि को बदनाम करने के लिए सीबीआई द्वारा साजिश रची गई है। प्रधानमंत्री के आदेश पर सीबीआई नाग बनकर दूसरों को डंसने का काम कर रही है। आज हम लोगों ने उसका विरोध भी किया है।

विज्ञापन
Loading...