महाशिवरात्रि तक दिखेगा बाबा विश्वनाथ दरबार का भव्य स्वरुप : योगी आदित्यनाथ

विज्ञापन

नारस। अपने दो दिवसीय दौरे पर वाराणसी पहुंचे सूबे के मुखिया योगी आदित्यनाथ दुसरे दिन प्रवासी भारतीय दिवस सम्मलेन की तैयारियों का जायजा लेने के लिए टेंट सिटी के लिए निकल चुके हैं। वहीं देर रात गीत रामायण कार्यक्रम में शिरकत के बाद मुख्यमंत्री ने काशी विश्वनाथ कारीडोर योजना का एक बार फिर स्थलीय निरिक्षण किया और वो इससे संतुष्ट दिखे। उन्होंने आश्वस्त किया कि इस महाशिवरात्रि पर बाबा दरबार का भव्य स्वरुप देखने को मिलेगा।

वहीं राम मंदिर मुद्दे पर योगी आदित्यनाथ मुस्कुराकर आगे बढ़ गए। बता दें कि विश्वनाथ कारीडोर परियोजना का कार्य बहुत तेज़ी से चल रहा है। इसको बनाने के लिए विश्वनाथ कारीडोर में चिन्हित 98 प्रतिशत चल और अचल संपत्ति क्रय की जा चुकी है।

विज्ञापन

अपने वाराणसी दौरे के पहले दिन देर रात श्री काशी विश्वनाथ मंदिर कारीडोर योजना का निरिक्षण करने पहुंचे सूबे के मुखिया योगी आदित्यनाथ ने मीडिया के सवालों का जवाब देते हुए कहा कि काशी की पहचान भगवान् विश्वनाथ जी का ये पावन मंदिर है। इस मंदिर के सुन्दरीकरण की योजना और यहाँ के अतिप्राचीन मंदिरों के संरक्षण को लेकर जो कार्य चल रहा है आज उसका निरिक्षण करने आया हूं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि काशी की पुरातन परम्परा, सांस्कृतिक और अध्यात्मिक परम्परा को संरक्षित रखते हुए सुन्दरीकरण का यह कार्य चल रहा है। काशी की इस पहचान को नई उंचाईयों तक ले जाने के लिए बहुत अच्छा अभियान अहि विश्वनाथ कारीडोर योजना। उन्होंने कहा कि हमारा विशवास है कि महाशिवरात्रि से पहले यहां बहुत अच्छी स्थिति देखने को मिलेगी।

वहीं मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मीडिया के लोगों का इस योजना को लेकर सकारात्मक पहलू को बढ़ चढ़कर दिखाने के लिए धन्यवाद भी दिया। मुख्यमंत्री से जब राम मंदिर के बारे में सवाल किया गया तो वो मुस्कुराकर आगे बढ़ गए।

विज्ञापन