नारस। महाराजगंज जिले के गरीबी गन्ना किसानों के 23 करोड़ रूपये हज़म करने और वाराणसी में ह्त्या के मामले में आरोपी, फरार चल रहे पूर्व सपा सांसद जवाहर जायसवाल को यूपी एसटीएफ की टीम ने मध्यप्रदेश पुलिस के सहयोग से दमोह जनपद से गिरफ्तार कर लिया। फिलहाल ह्त्या के मामले में आरोपी पूर्व सांसद पुत्र गौरव अभी फरार है, जिसकी तलाश यूपी एसटीएफ कर रही है।

वाराणसी के अर्दली बाज़ार इलाके में बैंक मैनेजर की हुई ह्त्या के आरोपी पूर्व सांसद जवाहर जायसवाल और पुत्र गौरव जायसवाल को उत्तर प्रदेश पुलिस ने फरार घोषित कर 25-25 हज़ार का इनाम रखा था। इसके अलवा दोनों के विरुद्ध लुक आउट नोटिस सर्कुलर भी जारी किया था लेकिन दोनों ही वाराणसी ज़ोन की पुलिस की गिरफ्त से बाहर थे।

ऐसे में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस मामले में संज्ञान लेते हुए यूपी एसटीएफ को यह मामला सौंपा था। यूपी एसटीएफ ने शुक्रवार की रात मध्यप्रदेश के दमोह जनपद से जवाहर जायसवाल को उनके रिश्तेदार के घर से गिरफ्तार कर लिया।

इस सम्बन्ध में एसपी दमोह (मध्य प्रदेश ) विवेक अग्रवाल ने Live VNS को फोन द्वारा बताया कि यूपी एसटीएफ ने हमारी पुलिस के साथ संयुक्त अभियान में दमोह से उत्तर प्रदेश में किसानों का पैसा हज़म करने और ह्त्या के मामले में वांछित पूर्व सांसद जवाहर जायसवाल को उनके रिश्तेदार के घर से गिरफ्तार किया है।

बता दें कि वाराणसी पुलिस को जवाहर जायसवाल और उसके पुत्र गौरव जायसवाल की तलाश ह्त्या के मामले में है। वहीं महाराजगंज पुलिस को गन्ना किसानों के 23 करोड़ रूपये बकाया को लेकर है।

आईजी STF अमिताभ यश के आदेश पर एसएसपी एसटीएफ अभिषेक सिंह द्वारा डिप्टी एसपी एसटीएफ विनोद सिंह को निर्देशित किया गया था। गिरफ्तारी के लिए एसटीएफ के तेजतर्रार इंस्पेक्टर विपिन राय के नेतृत्व में एक टीम मध्य प्रदेश के दमोह भेजी गई थी। टीम में सब इंस्पेक्टर अरविंद सिंह, कांस्टेबल अरविंद पाठक, कॉन्स्टेबल राजेंद्र पांडे, कांस्टेबल सनोज यादव, कमांडो विनोद यादव चालक राजमणि थे।