नारस। शनिवार को राष्ट्रीय सेवा योजना के तरफ से युवा दिवस के अवसर पर बीएचयू के महिला महाविद्यालय प्रांगण से रविदास गेट तक स्वयं सेविकाओं ने रैली निकाली।

विज्ञापन

युवा दिवस के अवसर पर राष्ट्रीय सेवा योजना के अधिकारी डाॅ नीलम अत्रि व डॉ रीता जायसवाल के नेतृत्व में 200 स्वयंसेविका ने युवाओं के प्रेरणास्त्रोत स्वामी विवेकानन्द जी के जन्मदिवस के अवसर एक रैली का आयोजन किया, जिसमे स्वयंसेविकाओं ने बढ़चढ़ कर हिस्सा लिया।

रैली में स्वयं सेविकाओं द्वारा हाथों में पोस्टर और स्लोगन लिखें तख्तियाँ लेकर चल रही थी, जो की लोगो के लिए आकर्षण का केन्द्र था। स्लोगन में उठो जागो और तबतक ना रूको जब तक लक्ष्य ना प्राप्त हो जाऐं, उठों मेरे शेरो इस भ्रम को मिटा दो कि तुम निर्बल हो, तुम एक अमर आत्मा हो स्वच्छंद जीव हो।

स्वामी विवेकानंद के विचार है पावर हाउस
इस अवसर पर कार्यक्रम अधिकारी डाॅ नीलम अत्रि ने स्वयं सेविकाओें को स्वामी जी के बारें में जानकारी देते हुए कहा की स्वामी विवेकानंद जी का पूरा नाम नरेंन्द्रनाथ था व स्वामी जी भारत के ऐसे महापुरूष के रूप में शुमार होते हैं जिनके विचार आज भी पावर हाउस से कम नही हैं।

सन 1893 में अमेरिका के शिकागो में हुई विश्व धर्म परिषद में स्वामी विवेकानंद भारत के प्रतिनीधि के रूप में पहुचे थें और उनके विचारों को सुनकर वहा मौजूद सभी विद्वान चकित रह गयें और उसके बाद स्वामी जी तीन वर्षा तक लगातार अमेरिका में रहें और लोगों को भारतीय तत्व ज्ञान प्रदान करतें रहें।

डाॅ रीता जायसवाल ने भी स्वयंसेविकाओं के मध्य अपने विचार प्रस्तुत कियें। स्वयं सेविकाओं की रैली रविदास गेट से मालवीय भवन में वापस आकर समाप्त हो गयी और वहा बैठकर सभी ने स्वामी जी से जुड़े चीजो की पोस्टर भी बनायी।
कार्यक्रम में मुख्य रूप से डाॅ0 नीलम अत्रि(कार्यक्रम अधिकारी), डा0 रीता जायसवाल (कार्यक्रम अधिकारी), इशानी, अंकिता, वर्षा, श्रेया, श्लोई आदि स्वयं सेविकाएँ कार्यक्रम में उपस्थित रही।

विज्ञापन
Loading...