DAV युवा महोत्सव ‘उड़ान-2019‘ के दूसरे दिन मिमिक्री ने दर्शको को किया लोटपोट

नारस। डीएवी पीजी काॅलेज में चल रहे तीन दिवसीय युवा महोत्सव ‘उड़ान-2019‘ के दूसरे दिन शुक्रवार को रंगमंच एवं ललित कला की विधाओं के नाम रहा।

मिमिक्री के जरिये लोगों को किया लोटपोट
युवा कलाकारों ने मिमिक्री के जरिये लोगो को गुदगुदाया तो मोनो एक्टिंग ने रूला भी दिया। छात्राओं ने हाथों में मेहंदी रचाई तो साथ ही समाज को संदेश देने वाली रंगोली भी सजाई। कार्टूनिंग एवं स्केचिंग के जरिये विभिन्न रंग भी बिखेरा। युवा महोत्सव के दूसरे दिन की शुरूआत मिमिक्री से हुई। जिसमें कलाकारो ने हास परिहास से भरपूर व्यंग प्रस्तुत किया।

मोनो एक्टिंग ने जीता दर्शको का दिल
कार्यक्रम के क्रम में मोनो एक्टिंग ने उपस्थित दर्शको के दिल को छू लिया। लक्ष्मी सिंह ने यौन उत्पीड़न के बाद लड़कियों को होने वाली समस्याओं का मंचन किया। ओम यादव ने एक दिव्यांग बच्चे का किरदार निभाया, जिसकी माता के देहान्त के बाद पिता द्वारा उसे प्रताड़ित किया जाता है, जिससे उब कर दिव्यांग आत्महत्या करने को मजबूर हो जाता है।

जल संरक्षण पर हुई चर्चा
शिवम गौड़ ने एक लेखक के दर्द को मंच पर दिखाया। भाव नाटक में महाभारत के दृश्य की अद्भूत प्रस्तुति ने उपस्थित दर्शको को तालियाॅ बजाने पर मजबूर कर दिया। वहीं स्किट में जल संरक्षण एवं शिक्षा के महत्व को दर्शातें हुए नाटक का मंचन हुआ।

छात्राओं ने बनाई रंगोली
ललित कला की प्रतियोगिताओं में रंगोली में छात्र छात्राओं ने विभिन्न सामाजिक सन्देश देने वाले रंगोली सजाई। निशा राज ने भ्रूण हत्या पर, निधि अग्रहरी ने जय जवान, जय किसान पर, श्वेता सिंह ने गो ग्रीन, आदित्य यादव ने दीप अलंकार पर आधारित रंगोली सजाई।

वही पोस्टर प्रतियोगिता में गौतम ने गरीबी पर तथा निशात परवीन ने अतुल्य भारत पर पोस्टर बनाया। इसके अलावा कोलाज, स्केचिंग, मेहन्दी जैसी प्रतियोगिता भी आयोजित हुई।ऑन द स्पाट फोटोग्राफी में प्रकृति के विविध रूप पर प्रतियोगिता आयोजित हुई। क्विज मास्टर शंखदीप सोम ने क्विज प्रतियोगिता में छात्र छात्राओं से सामान्य ज्ञान से सम्बन्धित प्रश्नोत्तरी आयोजित की।

इस अवसर पर मुख्य रूप से महाविद्यालय के प्राचार्य डाॅ सत्यदेव सिंह, प्रबन्धक अजीत कुमार सिंह, छात्र अधिष्ठाता डाॅ. विक्रमादित्य राय, कार्यक्रम संयोजक डाॅ राकेश कुमार द्विवेदी, डाॅ प्रदीप कमल, लल्लन प्रसाद जायसवाल, डाॅत्र अरूण कुमार श्रीवास्तव आदि उपस्थित रहे।