नारस। सोमवार को केबल टीवी के मासिक शुल्क मे हो चुके बेतहाशा वृद्धि एवं महंगे रिचार्ज एवं एडवान्स मे पैसे जमा करने की तुगलकी फरमान करने की वजह व ज्यादातर घरो मे बंद हो चुके केबल टीवी के प्रसारण से नाराज उपभोक्ता की ओर से सामाजिक संस्था सुबह-ए-बनारस क्लब संस्था के सदस्यो ने हाथो में तख्ती-बैनर लेकर ट्राई के इस नियम का विरोध किया।

15 लाख केबल ऑपरेटर पर मंडरा रहा बेरोजगारी का खतरा
इस अवसर पर संस्था के अध्यक्ष मुकेश जायसवाल ने कहा कि केबल टीवी.मे नया नियम व शुल्क मे काला कानून लाने की वजह से आज देश के 15,00000 केबल आपरेटर बेरोजगारी व भूखमरी के कगार पर पहुंचनेवाले है। साथ ही साथ निचले वर्ग के लोग मासिक शुल्क मे अत्यधिक इजाफा होने की वजह से मनचाहा चैनल देखने से वंचित होते जा रहे है।

विज्ञापन

नये नियम के मुताबिक 130 रुपया+जीएसटी. मिलाकर 160 रुपया मासिक फ्री एयर चैनल के नाम से अनिवार्यता के रुप मे उपभोक्ता से लिया जा रहा है।मगर उसमे उपभोक्ता के मनपसन्द का कोई भी चैनल शामिल नही है।

अगर उपभोक्ता अपने मनपसन्द का कोई चैनल चुनता है तो चैनल दर चैनल मनपसन्द चैनल को चुनते-चुनने मासिक शुल्क 500 से 600 रुपया पहुंचने की सम्भावना बन जाती है। जो कि निचले वर्ग की जनता के जेब पर भारी पड़ रहा है।

टीवी. के माध्यम से प्रचार स्वरूप चैनल के पैकेज के रुप मे जो एमाऊन्ट दिखाया जा रहा है, उसके विपरीत टेढ़े-मेढ़े नियम व जीएसटी के वजह से जोड़ने पर वह एमाउन्ट बढ़कर उपभोक्ताओ के मासिक शुल्क मे काफी वृद्धि कर रहा है,जो आम जनता के पंहुच से बाहर है।

चुनाव में पर सकता है इस नियम का असर
अगर सरकार आम जनता के इन गम्भीर समस्यायो पर गम्भीरता पूर्वक विचार नही करती है तो ज्यादातर गरीब जनता के लिए केबल टीबी. का मनोरंजन मात्र एक स्वप्न बनकर रह जायेगा और यही आगे चलकर देश पर शासन करनेवाले सरकार के लिए चुनावी समर मे घातक साबित होगा।

अन्त मे सभी वक्ताओ ने सरकार से केबल टीबी.के बढ़े हुए शुल्क को न्यूनतम दर करके आम जनता को राहत प्रदान करने की मांग की।

कार्यक्रम मे मुख्य रुप से अध्यक्ष मुकेश जायसवाल, कोषाध्यक्ष नन्दकुमार टोपीवाले, उपाध्यक्ष अनिल केशरी, चन्दशेखर चौघरी, डॉ मनोज यादव, पंकज पाठक, सुनील अहमद खान, नत्थूलाल सोनकर, सुरेश सेठ, प्रकाश मौर्या विजय जायसवाल, राजेश श्रीवास्तव, सहीत कई लोग शामिल रहे।

विज्ञापन
Loading...