डिप्‍टी एसपी सुरेन्‍द्र नाथ यादव : एयरफोर्स में फिटर से वाराणसी में CO पिंडरा तक का सफर

0
75

नारस। सेना में भर्ती होकर देश सेवा करने का जज़्बा हर एक देशवासी के दिल में कभी न कभी ज़रूर पनपता है। भारत मां की सेवा करने वाले लोग अपनी आखिरी सांस तक देश सेवा की बात करते हैं, लेकिन वाराणसी जनपद में तैनात एक डिप्टी एसपी ने 18 साल से अधिक इंडियन एयरफोर्स में नौकरी के बाद समाज की सेवा के लिए सेना की नौकरी छोड़ पहले बीडीओ और एक साल बाद ही पुलिस सेवा ज्वाइन कर ली।

हम बात कर रहे हैं गोरखपुर के रहने वाले और मौजूदा समय में वाराणसी पुलिस को डिप्टी एसपी के रूप में सेवा दे रहे सीओ पिंडरा सुरेंद्र नाथ यादव की। साढ़े 18 वर्ष तक एयरफोर्स को सेवा देने वाले तथा वर्तमान में उत्तर प्रदेश पुलिस के डिप्टी एसपी सुरेंद्र नाथ सिंह 2014 में पुलिस सेवा में आये। Live VNS ने उनके कार्यकाल और उनके द्वारा एयरफोर्स छोड़ पुलिस की सेवा में आने के बारे में बात की।

17 साल की उम्र में ज्वाइन किया एयरफोर्स
डिप्‍टी एसपी सुरेन्द्र नाथ यादव ने बताया कि वो गोरखपुर के कैम्पियरगंज के रहने वाले हैं। उनके पिता स्वर्गीय राम नयन यादव कोऑपरेटिव बैंक में थे। सुरेन्‍द्र नाथ यादव के अनुसार उन्‍होंने इलेक्ट्रिकल से डिप्लोमा कोर्स भी किया था और गोरखपुर के सेंट एंड्रयूज कॉलेज से बीएससी करते वक्‍त सेकंड ईयर में ही उनकी नौकरी एयरफोर्स में लग गयी। उस वक्‍त उनकी उम्र महज 17 साल थी।

मिसाइल फिटर की मिली नौकरी
डिप्‍टी एसपी सुरेन्‍द्र नाथ यादव ने बताया कि एयरफोर्स में उनका काम मिसाइल के रख रखाव का ध्यान रखना, उसमें कंट्रोल इक्यूपमेंट, ऑटो पायलट आदि का ख्याल रखना था। इसके अलावा वे राडार तकनीक में भी ट्रेंड रहे।

समाज सेवा के लिए आये पुलिस सेवा में
एयरफ़ोर्स से पुलिस सेवा में आने के बारे में जब डिप्‍टी एसपी सुरेंद्र नाथ यादव से हमने पूछा तो उन्होंने बताया कि एयरफ़ोर्स में 20 साल का बाउंड था। तकरीबन साढ़े 18 साल नौकरी करने के बाद दिल में आया कि देश सेवा तो हो गई अब समाज सेवा और अपने प्रदेश की सेवा करनी है, इसलिए 2013 में यूपीपीसीएस की परीक्षा में बैठा, जिसमें सफल होने के बाद पहली बार काकोरी में बीडीओ के पद पर तैनाती मिली। इसके बाद दुबारा 2014 में यूपीपीसीएस की परीक्षा दी और यूपी पुलिस में डीएसपी के पद पर तैनात हुआ। यहीं से मेरी पुलिस सर्विस शुरू हुई।

फ़ौज को बूढ़ा नहीं करना है
डिप्टी एसपी सुरेंद्र सिंह ने कहा कि मेरा कांसेप्ट था कि जब तक आप यंग हो तभी तक फौज में सेवा दो। हमें फ़ौज को बूढ़ा नहीं करना है। हमें देश का लगेज नहीं बनना है।

पहली पोस्टिंग लखनऊ
2014 में पुलिस सेवा में आए सीओ पिंडरा को पहली बार पोस्टिंग अंडर ट्रेनी के तौर पर लखनऊ में मिली। उसके बाद उन्हें दो महीने के लिए बुलंदशहर भेजा गया। इसके बाद सीधे जुलाई 2017 में वाराणसी ट्रांसफर हुआ। यहां पहले सीओ क्राइम के पद पर और उसके बाद से सीओ पिंडरा पद पर उन्‍हें तैनाती मिली।

प्रवासी भारतीय दिवस में निभायी अहम भूमिका
सीओ पिंडरा सुरेंद्र नाथ यादव ने उत्तर प्रदेश के पहले अंतरराष्ट्रीय समारोह प्रवासी भारतीय दिवस को सफल बनान के पीछे अहम् भूमिका निभायी। उत्तर प्रदेश पुलिस ने इस ज़िम्मेदार पुलिस अधिकारी को 20 सुपर कॉप्स के साथ हैदराबाद भेजा और उन्हें कई सारे इक्यूप्मेंट्स की ट्रेनिंग करवाई। इन सभी ने सीओ सुरेंद्र नाथ के नेतृत्व में इस अंतरराष्ट्रीय समारोह की सफलता में नये आयाम गढ़े।

डिप्टी एसपी सुरेंद्र नाथ यादव की एक बेटी और एक बेटा है, जो अभी पढ़ रहे हैं। इसके अलावा इनके चार भाई हैं। दो घर पर ही रहकर खेती-किसानी करते हैं और एक बीयूएमएस और एक जॉब में है।