भारतीय सेना और अर्धसैनिक बल किसी परिचय के मोहताज नहीं है। हम सभी देशवासी अपने जवानों को बेहद प्यार और सम्मान देते हैं। जैसे कि हम सभी जानते हैं कि हाल ही में 14 फरवरी को जम्मू कश्मीर में 40 से अधिक सीआरपीएफ के जवान कश्मीर के पुलवामा में जैश ए मोहम्मद आतंकवादी समूह से संबंधित एक आत्मघाती हमले में शहीद हो गये।

प्रतिशोध में भारत ने न केवल पाकिस्तान से मोस्ट फेवर्ड नेशन स्टेट (एमएसएन) को वापस ले लिया है बल्कि यह भी घोषणा की है कि या पाकिस्तान को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पूरी तरह से अलग करने के लिए महत्वपूर्ण कदम उठाएगा।

राष्ट्रीय रक्षा कोष का गठन राष्ट्रीय रक्षा प्रयासों को बढ़ावा देने और उनके उपयोग पर निर्णय लेने के लिए नकद और स्वच्छता से स्वैश्विक दान का प्रभार लेने के लिए किया गया था। इस फंड का उपयोग सशस्‍त्र बलों के सदस्य के कल्याण के लिए किया जाता है।

यह भी पढ़ें : छात्रों में वैश्‍विक समझ बढ़ाने के लिये बनारस में आयोजित होगा मॉडल युनाइटेड नेशन्‍स कॉन्‍फ्रेंस

हिंदुस्तान मॉडल संयुक्त राष्ट्र 2019 ने घोषणा की है कि हाल ही में हुई घटना में शहीद हुए देश के बहादुर जवानों के परिवार को समर्थन करने के लिए एकत्र की गयी धनराशि का 10% पर्सेंट दान किया जाएगा।

 

लेखक शिवम सिंह हिंदुस्तान मॉडल संयुक्त राष्ट्र के संस्‍थापक हैं।