नारस। 24 फ़रवरी को यूपी कॉलेज के पीजी हॉस्टल गेट के सामने छात्र विवेक सिंह की गोली मारकर हत्या कर दी गयी थी। पुलिस ने इस मामले में दो अभियुक्‍तों को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस के अनुसार अभियुक्‍तों ने कबूल किया है कि हत्‍या के पीछे आपस की पुरानी रंजिश प्रमुख कारण रही है। वरिष्‍ठ पुलिस अधीक्षक के अनुसार पकड़े गये दोनों में एक हिमांशु तिवारी यूपी कॉलेज छात्रसंघ में पुस्‍तकालय मंत्री है।

मुखबीर से मिली सूचना
बीती रात शनिवार को शिवपुर पुलिस अपने क्षेत्र में चेकिंग अभियान चला रही थी, कि उसी समय मुखबीर से सूचना मिली कि यूपी कॉलेज में छात्र की हत्या करने वाले अभियुक्त तरना ओवर ब्रिज के ढलान (भेल गेट) के पास खडे हैं और कही भागने की फिराक में है।

पिस्‍टल कारतूस बरामद
इस सूचना पर त्वरित कार्रवाई करते हुए पुलिस टीम मौके पर पंहुचकर दो अभियुक्तों को गिरफ्तार कर लिया। इनके पास से पुलिस ने एक पिस्टल 32 बोर एवं तीन ज़िंदा कारतूस बरामद किया है।

पुलिस के अनुसार गिरफ्तार अभियुक्त अभिषेक मिश्रा कुरौली नियार थाना चोलापुर एवं हिमांशु तिवारी बोदरी थाना चन्दवक जिला जौनपुर का रहने वाले हैं।

घटना के पीछे रहा ये कारण
पुलिस के अनुसार पूछताछ में अभियुक्तों ने बताया कि हम लोग यूपी कॉलेज वाराणसी में पढ़ते थे, जहां पर हम लोगों की मुलाकात अनुपम नागवंशी उर्फ कुन्दन से हुई थी। उनके माध्यम से उनके साथ के अन्य लोगो से भी हमारी मेल मुलाकात हुई थी।

फ्रेशर पार्टी में हुआ था झगड़ा
अभियुक्‍तों ने बताया कि अनुपम नागवंशी उर्फ कुन्दन बी-ब्लाक हॉस्‍टल में रहते थे तथा विवेक सिंह व सर्वेश सिंह लोग डी-ब्लाक में रहते थे। हास्टल में बी-ब्लाक व डी-ब्लाक के लडकों के बीच शुरू से ही रंजिश चलती थी। वर्ष 2017 में यूपी कालेज में फ्रैशर पार्टी चल रही थी। इसमें हास्टल के बहुत से सीनियर व जूनियर लडके इक्टठा थे। अनुपम नागवंशी उस समय कालेज के महामंत्री थे। उस दिन वे शराब पीने के बाद सर्वेश सिंह को गाली देने लगे। इसी बात पर विवेक सिंह बीच बचाव करने आया। इसपर अनुपम नागवंशी ने विवेक सिंह को भी गाली दे दी। तब विवेक सिंह ने सभी लड़को के सामने अनुपम नागवंशी को थप्पड मार दिया था। इसके बाद अनुपम नागवंशी ने विवेक सिंह को गोली मारने की कसम खायी थी।

…चलो आज गोली मार ही देते हैं
पुलिस पकड़ में आये अभियुक्‍तों ने बताया कि, इसी बात की रंजीश को लेकर हम लोग विवेक सिंह को काफी दिनो से मारने की फिराक में थे, लेकिन मौका नहीं मिल रहा था। 24 अप्रैल को मनीष के भाई की शादी कुशवाहा लान आशापुर में थी। जिसमें हम लोग गये थे तथा वहां पर अनुपम नागवंशी उर्फ कुन्दन, अंकित सिंह सेंगर, हिमांशु तिवारी, शिवम सिंह उर्फ केजे, अतुल पाण्डेय, राहुल राजपूत, पवन सिंह उर्फ चिन्टू तथा मेरे गांव के ही रहने वाले शुभम सिंह उर्फ गोलू, कुन्दन सिंह व सुनील सिंह मिले। अनुपम नागवंशी ने कहा कि आज विवेक को गोली मार ही देते हैं।

नागवंशी ने सभी को दिया पिस्‍टल और कारतूस
अनुपम नागवंशी ने अभिषेक मिश्रा व सुनील सिंह तथा शुभम सिंह उर्फ गोलू को पिस्टल व कारतूस दिया। इसके बाद तब सब अपनी अपनी मोटरसाइकिल से आकर पीजी हॉस्टल के गेट पर खडे हो गये। इसी बीच विवेक सिंह के हॉस्‍टल से यूपी कॉलेज गेट की तरफ जाने की सूचना मिली। इसपर सभी लोग तैयार हो गये। जब विवेक सिंह 3-4 आदमियो के साथ पीजी हास्टल तिराहे पर पहुँचा तो अभियुक्‍तों को लगा कि कई लोग हैं, जिनके समाने गोली मारना ठीक नहीं होगा।

अभियुक्‍तों ने आवाज देकर बुलाया
इसके बाद हिमान्शु तिवारी व अतुल पाण्डेय ने विवेक सिंह को आवाज देकर बुलाया, तो उसके साथ जा रहे अन्य व्यक्ति वहीं तिराहे पर रुक गये। इसपर विवेक सिंह अकेला ही पीजी हास्टल गेट पर आ गया। तब अनुपम ने कहा कि मौका अच्छा है आज इसको गोली मार दो। उसके पास आते ही सब लोग चिल्लाने लगे कि आज मार डालो इसको अनुपम भईया का बदला पूरा कर दिया जाये।

ताबड़तोड़ गोली मारकर उतार दिया मौत के घाट
इसके बाद शुभम सिंह उर्फ गोलू, सुनील सिंह और अभिषेक मिश्रा अपने अपने पास लिये असलहे निकाल कर विवेक सिंह पर फायरिंग करना चाहे कि अभिषेक मिश्रा की पिस्टल फंस गयी। उसमें से गोली नहीं चली लेकिन सुनील सिंह व शुभम सिंह उर्फ गोलू ने विवेक सिंह पर ताबडतोड फायरिंग कर दिया। गोली की आवाज से हास्टल तथा आस-पास के इलाके में अफऱा-तफरी मच गयी। अभियुक्‍तों को जब लगा कि विवेक सिंह मर गया है तो वे आराम से अलग-अलग दिशा में भाग निकले।

इन धाराओं में दर्ज हुआ मुकदमा
फिलहाल पुलिस ने गिरफ्तार अभियुक्तों के खिलाफ थाना शिवपुर में मुक़दमा अपराध संख्या मुकदमा अपराध संख्‍या 100/2019 धारा 147/148/149/302/34/120 (बी) भादवि व 7 सी0एल0ए0 एक्ट तथा मुकदमा अपराध संख्‍या 114/2019 धारा 3/25 आर्म्स एक्ट दर्ज किया है।

इस टीम ने किया गिरफ्तार
गिरफ्तारी करने वाली पुलिस टीम में एसओ शैलेश कुमार मिश्र, सब इंस्पेक्टर विनोद कुमार मिश्र, कॉन्स्टेबल अखिलेश सिंह, कॉन्स्टेबल देवाशीष सिंह, कॉन्स्टेबल राहुल सिंह, कॉन्स्टेबल मनीष सिंह, कॉन्स्टेबल अजय सिंह, कॉन्स्टेबल सतीश कुमार व कॉन्स्टेबल अभिषेक गौड़ शामिल रहे।

देखें वीडियो, विवेक सिंह हत्‍याकांड का खुलासा करने के बाद मीडिया से क्‍या बोले एसएसपी वाराणसी