नारस। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आगामी आठ मार्च को वाराणसी दौरे पर आ रहे हैं। इस दौरान प्रधानमंत्री 39 हज़ार वर्ग मीटर में बन रहे विश्वनाथ कॉरिडोर के कार्य का शिलान्यास करेंगे। प्रधानमंत्री के दौरे के पहले मंगलवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने विश्वनाथ कॉरिडोर निर्माण कार्य का निरिक्षण किया और भूमी पूजन स्थल के रूप में मिर्ज़ापुर मठ की भूमी का चुनाव किया। उनके इस चुनाव के बाद से ही इस स्थल पर कार्य शुरू कर दिया गया है। इस दौरान मुख्यमंत्री ने कार्य का निरिक्षण कर अधिकारियों से बातचीत कर उन्हें आवश्यक दिशा निर्देश दिए।

अपने एक दिवसीय वाराणसी दौरे पर पहुंचे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने काशी विश्वनाथ मंदिर में विधिवत दर्शन पूजन कर बाबा की शयन आरती में सम्मलित हुए। उसके बाद उन्होंने प्रधानमंत्री के आठ मार्च के दौरे के मद्देनज़र विश्वनाथ कॉरिडोर का एक बार फिर बारीकी से निरिक्षण शिलान्यास और भूमी पूजन के लिए मिर्ज़ापुर मठ की भूमि का चयन किया। इसी स्थान पर भजन संध्या रोज़ाना हो रही थी। मुख्यमंत्री के चयन के बाद भजन संध्या के लिए लगा टीन शेड उखाड़ दिया गया है।

विज्ञापन

प्रधानमंत्री करेंगे पूरे कॉरिडोर का निरिक्षण
मुख्यमंत्री ने इस पूरे समारोह के लिए एक भव्य गेट बनाने का निर्देश भी दिया है। उसके बाद मुख्यमंत्री गेट नंबर तीन से होते हुए मणिकर्णिका घाट जाने वाले रस्ते पर मौजूद विश्वनाथ मंदिर की तरह बने मंदिर को देखने पहुंचे। उन्होंने अधिकारियों को आदेश दिया कि जो भी मंदिर विश्वनाथ मंदिर कॉरिडोर में आ रहे हैं उन सब तक पहुँचने का रास्ता बनाया जाए ताकि प्रधानमंत्री कारीडोर निरिक्षण के दौरान इन मंदिरों का अवलोकन कर सकें।

380 करोड़ में बनेगा कॉरिडोर
प्रधानमंत्री के ड्रीम प्रोजेक्ट विश्वनाथ कॉरिडोर परियोजना का डीपीआर बनकर तैयार है। इस डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट के अनुसार मंदिर के सौदर्यीकरण और विस्तारीकरण के लिए 380 करोड़ रूपये खर्च होंगे। मंदिर का प्रवेश द्वारा 50 फिट से ज़्यादा चौड़ा बनाया जाएगा। कॉरिडोर के दोनों तरफ श्रद्धालुओं के लिए सुविधाओं को विकसित किया जाएगा।

विज्ञापन
Loading...