पिंडरा/विधि संवाददाता धनंजय शर्मा

नारस। जिला एवं सत्र न्यायलय में बुधवार की दोपहर अचानक निर्माणधीन नई बिल्डिंग का पायट गिरने से सात अधिवक्ता और कुछ मुवक्किल घायल हुए थे। इनमे से एक अधिवक्ता को गंभीर अवस्था में बीएचयू ट्रामा सेंटर में भर्ती कराया गया था।

इस घटना के बाद से अधिवक्ता आक्रोशित हैं और कार्यदायी संस्था के ऊपर कार्रवाई की मांग कर रहे हैं। इसी सम्बन्ध में आज कार्य से विरत रहते हुए दी सेन्ट्रल बार एसोसिएशन के अध्यक्ष शिव पूजन गौतम के नेतृत्व में एसएसपी को ज्ञापन देने पहुंचा।

यहाँ एसएसपी की गैरमौजूदगी में किसी के द्वारा ज्ञापन न लिए जाने पर अधिवक्ताओं ने जमकर विरोध किया और पुलिस प्रशासन विरोधी नारे लगाए। विरोध की सूचना पर एसएसपी के आदेश पर उनके प्रतिनिधि ने अधिवक्ताओं के ज्ञापन को स्वीकार किया।

इस सम्बन्ध में दि बनारस बार एसोसिएशन के अध्यक्ष शिवपूजन सिंह गौतम ने बताया कि हम लोग कल की घटना के विरोध में न्यायिक कार्य को ठप्प कर दिया गया है, हमारे घायल अधिवक्ता साथी जीवन और मृत्यु के संघर्ष में लड रहें हैं। उनकी हालत गंभीर बनी हुई है। हमने इस सम्बन्ध में आज कार्यदायी संस्था के ऊपर कार्रवाई के लिए एसएसपी को ज्ञापन सौंपा है। हमारी मांग है कि प्रशासन घायलों को मुआवज़ा दे।

बुधवार की घटना पर अबतक कोई कार्रवाई न होने से सेंट्रल बार व बनारस बार के संयुक्त जुलूस में सैकड़ों की संख्या में अधिवक्ता जुटे। अधिवक्ताओं की मांग थी कि इतनी बड़ी घटना होने के बावजूद कार्रवाई न होना चिंता का विषय है जबकि यहां पर हजारों अधिवक्ता हैं, न्यायाधीश हैं, पुलिस के आला अफसर हैं, पूरा जिला प्रशासन है बावजूद कर्रवाई न होना गंभीर मामला है।

जुलूस में सेंट्रल बार के अध्यक्ष शिवपूजन सिंह गौतम, बनारस बार के अध्यक्ष राजेश मिश्रा, बनारस बार के महामंत्री विनोद शुक्ला, सेंट्रल बार के महामंत्री बृजेश मिश्रा, शशांक शेखर त्रिपाठी पूर्व उपाध्यक्ष, ओपी पांडे पूर्व महामंत्री, नागेंद्र सिंह, आशुतोष शुक्ला, शिवानंद सिंह सहित सैकड़ो की संख्या में अधिवक्ता मौजूद रहे। बार अध्यक्ष व अन्य पदाधिकारियों का कहना है कि कल की मीटिंग में प्रशासन के रवैए को देखते हुए आगे की रणनीति तय की जाएगी।