राजेश मिश्रा

नारस। शहर के सांसद और देश के प्रधानमंत्री नरेंद मोदी के काशी विश्वनाथ कॉरिडोर के शिलान्यास और भूमि पूजन के बाद राजनीति गरमा गई है। इस मामले। में कांग्रेस नेता और वाराणसी से पूर्व सांसद राजेश मिश्रा ने तीखी टिप्पणी की है। उन्होंने कहा कि काशी की जनता विद्वान मानी जाती है लेकिन इस बार उसने एक मूर्ख को अपना सांसद चुन लिया है।

राजेश मिश्रा की यह प्रतिक्रिया पीएम मोदी के इस बयान पर आया है जिसमें उसमें उन्होंने कहा कि अब भोले बाबा को मिलेगी मुक्ति। उन्होंने कहा कि काशी को मुक्तिधाम कहा जाता है, वहीं पीएम खुद बाबा विश्वनाथ को मुक्ति दिलाने की बात कर रहे हैं।

पूर्व सांसद ने पीएम मोदी पर आरोप लगाया कि वे पहले दिन से ही चुनावी मोड में हैं। वे प्रधानमंत्री के कार्यलय में शायद ही कभी बैठे हों। वे आये दिन इस तरह के विवादित भाषण देते रहते हैं। राजेश मिश्रा ने कहा कि काशी 5 हजार से ज्यादा पुरानी नगरी है और बाबा विश्वनाथ भी तभी से यहां वास करते हैं। बाबा विश्वनाथ के दरबार मे किसी ने कभी कोई मंच नहीं लगाया था। लेकिन पीएम मोदी ने वहां न केवल मंच लगाया बल्कि वहां भाषण देकर बाबा विश्वानाथ का अपमान किया है।

उन्होंने कहा कि पीएम के इस आचरण से न केवल काशी बल्कि पूरा देश शर्मसार हुआ है। राजेश मिश्रा ने कहा कि आने वाले चुनावों के जनता को पता कि जाएगा कि बाबा विश्वनाथ किसे मुक्त करेंगे। उन्होंने कहा कि बाबा विश्वनाथ को मुक्त कराने वाला न कभी पैदा हुआ था न पैदा होगा। उन्होंने कहा कि काशी मुक्तिधाम है और बाबा विश्वनाथ सबको मुक्त कर स्वर्ग भेजते हैं, आने वाले समय खुद पता चला जाएगा कि कौन कहां जाएगा

देखें वीडियो, मीडिया से बातचीत में क्‍या बोले वाराणसी के पूर्व सांसद डॉ राजेश मिश्रा