नारस। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्रेड फैसिलिटी सेंटर में अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर स्वयं सहायता समूहों द्वारा लगायी गयी प्रदर्शनी को देखा।

नाबार्ड का प्रदर्शनी रहा सबसे ख़ास

इस प्रदर्शनी में नाबार्ड ने भी अपने स्वयं सहायता समूहों द्वारा बनाए गए जरदोज़ी एवं सिल्क के उत्पादों की प्रदर्शनी लगायी थी और ऑनलाइन ईशक्ति पोर्टल का स्टॉल भी प्रदर्शित किया था। इस पोर्टल पर नाबार्ड द्वारा बनारस के 1500 से ज़्यादा स्वयं सहायता समूहों को ऑनलाइन किया गया है, जिससे उनके खातों के रख रखाव में पारदर्शिता आयी है और बैंकों को ऋण देने में भी सुविधा हुई है।

पीएम ने नाबार्ड के कार्य का किया सराहना

पीएम मोदी ने ने नाबार्ड के महिला समूह से बोला कि सराहनीय प्रयास है। जिससे समूह की महिलाओं में उमंग और जोश की वृद्धि हुई है और उन्होंने और कड़ी लगन से काम करने का निर्णय लिया है।

पुरे देश में है नाबार्ड के 45 लाख समूह

इस अवसर पर नाबार्ड के डीडीएम सुशील कुमार तिवारी ने बताया की नाबार्ड ने 1992 में पहली बार भारत में स्वयं सहायता समूहों के गठन की शुरुआत की थी और आज देश में 45 लाख से से ज़्यादा समूह बन गए हैं। जिसको एनआरएलएम ने 2011 में अपनाया।

अब नाबार्ड ईशक्ति पोर्टल के माध्यम से देश के100 से ज़्यादा जिलों में इस अभियान को चला रहा है, जिसमें प्रधानमंत्री का संसदीय क्षेत्र का वाराणसी भी शामिल है।

वही नाबार्ड के महा प्रबंधक उपाध्याय ने कहा की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के महिलाओं के स्वयं सहायता समूहों के सशक्तिकरण के अभियान में नाबार्ड हर सम्भव मदद करेगा।