नारस। शहर के सरायगोवर्धन इलाके में जन्मे महाकवि जयशंकर प्रसाद की पहली प्रतिमा मानस नगर पार्क दुर्गाकुंड मे लगने की तैयारियां शुरू हो गई है। महाकवि जयशंकर प्रसाद स्मृति न्यास संस्थान की तरफ से लगाईं जाने वाली इस आदमकद प्रतिमा का ऑर्डर दे दिया गया है और स्थान चिन्हित कर लिया गया है। इस बात की जानकारी ट्रस्ट के ट्रस्टी उत्तम ओझा ने दी।

आदमकद होगी प्रतिमा
इस सम्बन्ध में बात करते हुए महाकवि जयशंकर प्रसाद स्मृति न्यास संस्थान के ट्रस्टी उत्तम ओझा ने बताया कि महाकवि जयशंकर प्रसाद काशी की महान विभूतियों में से एक हैं। इसके बावजूद आज तक नगर के किसी भी पार्क या चौराहे पर उनकी प्रतिमा नहीं लगाईं गई। इसीलिए हमने ट्रस्ट की तरफ से महाकवि की एक आदमकद मूर्ती लगवाने का फैसला किया है, जिसका स्ट्रक्चर बनना शुरू हो गया है।

डेढ़ लाख की लागत से बनेगी प्रतिमा
उत्तम ओझा ने बताया कि यह प्रतिमा दुर्गाकुंड में स्थित मानस नगर पार्क में लगाईं जाएगी। दो से तीन महीने में प्रतिमा बनकर तैयार हो जाएगी जिसकी लागत डेढ़ से दो लाख रूपये आएगी, जिसे जन-सहयोग से पूरा किया जाएगा। साहित्यप्रेमी, समाजसेवी, प्रोफेसर, डाक्टर समेत अन्य लोग भी इसमें पूरा सहयोग कर रहे हैं। इसके अलावा पार्क का सुंदरीकरण भी किया जाना है, जिसमें करीब पांच लाख रुपये खर्च होंगे।

साहित्यिक गुटबाज़ी का हुए शिकार
संस्था के ट्रस्टी उत्तम ओझा ने बताया कि जयशंकर प्रसाद राष्ट्रवादी कवि थे, लेकिन साहित्यिक गुटबाजी के शिकार हो गए। वे अपने ही घर में उपेक्षित रहे और उनकी एक भी प्रतिमा काशी में स्थापित नहीं की गई। अब राष्ट्रप्रेम की वजह से उनकी प्रतिमा स्थापित कर स्मृति स्थली विकसित करने पर काम चल रहा है।