नारस। फागुन चढ़ते ही अलमस्त नगर काशी के अल्हड़ काशी वासी होली की तैयारी में लग गए हैं। स्कूलों में तो अभी से छात्र-छात्राएं रंग से सराबोर हो रहे हैं। वहीं इस बार शहर के पांडेयपुर इलाके की होलिका दहन ख़ास होने जा रहा है। इस होलिका में पहली बार हिरण्यकश्यप की बहन होलिका का 35 फुट ऊंचा पुतला बैठाया जा रहा है।

पांडेयपुर चौराहे पर स्थित पुरानी होलिका समिति की होलिका 20 वर्ष पुरानी है। इस होलिका समिति के विष्णु गुप्ता ने बताया कि हर वर्ष हम होलिका दहन में कुछ अलग करते हैं। इस वर्ष जहां गुजरात में विश्व की सबसे ऊँची प्रतिमा सरदार वल्लभ भाई पटेल की स्थापित की गई तो उसी से प्रेरणा लेते हुए हमने इस वर्ष होलिका में हिरण्यकश्यप की बहन होलिका की प्रतिमा स्थापित करवाने की सोची और पिछले चार दिनों में यह बनारस की सबसे ऊंची 35 फुट की प्रतिमा बनकर तैयार है।

इस प्रतिमा को बनाने वाले कारीगर राज धरकार ने बताया कि होलिका की प्रतिमा कागज़ और बांस से बनाई गई है। इसे बनाने में चार दिन का समय लगा है। इसकी लम्बाई 35 फिट है और इसी तरह प्रह्लाद की भी प्रतिमा बनाई गए है जो 6 फुट की है। दोनों ही प्रतिमाओं को रविवार 17 मार्च को पांडेयपुर चौराहे पर स्थापित कर दिया जाएगा।