नारस। भारतीय जलमार्ग प्राधिकरण द्वारा रामनगर के राल्हूपुर में राष्ट्रिय जलमार्ग-1 पर निर्मित बंदरगाह के फेज़ वन के निर्माण कार्यों के सत्यापन के लिए विश्व बैंक की टीम वाराणसी पहुंची थी। इस दौरान टीम ने प्राधिकरण द्वारा भेजी गई प्रगति रिपोर्ट का भौतिक सत्यापन भी किया। इस दौरान टीम ने IWAI (इनलैंड वाटर अथॉरिटी ऑफ़ इण्डिया ) के अधिकारियों से बात की और लंबित कार्यों को जल्द से जल्द पूरा करने की बात कही।

इस टीम में विश्व बैंक के कंसल्टेंट हनी गुप्ता और अतुल कैंसल मौजूद थे। विश्व बैंक के दोनों अधिकारियों ने पूरे बंदरगाह का निरिक्षण किया और अधिकारियों से पूरी जानकारी ली। उन्होंने अधिकारियों को कार्य में तेज़ी लाकर फेज़-1 का कार्य जल्द से जल्द पूरा करने की बात कही। इस दौरान उनके साथ IWAI व कार्यदायी संस्था एफकॉन के अधिकारी मौजूद रहे।

विज्ञापन

IWAI के अधिकारियों ने बताया कि फेज एक में होने वाले कामों में पैंसेजर जेटी का काम भी लगभग पूरा होने वाला है। पहुंच मार्ग बन कर तैयार है। साथ ही विधुत सब स्टेशन व प्रशासनिक भवन भी तैयार होने वाला है।

बता दें कि जलमार्ग परिवहन पीएम नरेंद्र मोदी की स्वर्णिम परियोजनाओं में से एक है। इसी के तहत बंदरगाह का गत वर्ष खुद पीएम ने लोकार्पण किया था। तब से लेकर कई बार रामनगर बंदरगाह पर कई कंपनियों के माल का टैगोर जलपोत से परिवहन शुरू हो गया है।

विज्ञापन
Loading...