नारस। वाराणसी पुलिस के तुरंत एक्शन में आने से के 12 साल की बच्ची जिस्मफरोशी के दलदल में फंसने से बच गई। मिली जानकारी के मुताबिक मडुवाडीह इलाके में पति-पत्नी और एक युवक ने झांसा देकर लहरतारा से 12 साल की किशोरी को होली के दिन किडनैप कर लिया था। उसे लोहता स्थित एक मकान में एक महिला के पास बंधक बनाकर रखा गया था। इस नाबालिग को दिल्ली में बेचकर जिस्मफरोशी के दलदल में धकेलने की तैयारी थी।

किडनैपर्स ने फोन पर नाबालिग का सौदा भी तय कर लिया था। इसी बीच की मडुवाडीह पुलिस ने सूचना मिलते ही ताबड़तोड़ छापेमारी करनी शुरू कर दी। इससे डरकर किडनैपर्ड ने नाबालिग को रिहा कर दिया। पुलिस इस नाबालिग का अपहरण करने वालों की तलाश में दबिश दे रही है। मडुवाडीह थाना इंचार्ज राघवेंद्र सिंह ने बताया कि होली के के दिन ही इस नाबालिग पड़ोस में रहने वाले रिश्ते के मामा-मामी ने एक युवक के साथ मिलकर इस 12 वर्षीया नाबालिग किशोरी को किडनैप कर लिया था।

विज्ञापन

नाबालिग के पिता की सूचना पर उसकी तलाश के लिए मडुवाडीह पुलिस की टीम ने जगह-जगह छापेमारी शुरू कर दी। इस बीच किडनैपर्स ने नाबालिग को उज़के मां-बाप की हत्या करने की धमकी देते हुए रिहा कर दिया।

किडनैपर्स के चंगुल से छूट घर लौटने पर नाबालिग ने बताया कि किडनैपर्स उसे दिल्ली बेचने के लिए ले जाने वाले थे। इसी बीच किसी ने कॉल करके किडनैपर्स को बताया कि पुलिस बच्ची की तलाश में जगह जगह छापेमारी कर रही है, बच्ची को रिहा कर दो नहीं तो सब पकड़े जाएंगे। मडुवाडीह पुलिस ने नाबालिग के किडनैपिंग के मामले में लहरतारा के रहने वाले राजकुमार, लोहता के विनोद कुमार गुप्ता और अंजू देवी के खिलाफ आईपीसी की धारा 363, 370, 506, 342, 323 में मुकदमा दर्ज किया है। इस मामले में पुलिस राजकुमार और विनोद गुप्ता को रविवार को ही गिरफ्तार कर चुकी है

विज्ञापन
Loading...
www.livevns.in का उद्देश्‍य अपनी खबरों के माध्‍यम से वाराणसी की जनता को सूचना देना, शि‍क्षि‍त करना, मनोरंजन करना और देश व समाज हित के प्रति जागरूक करना है। हम (www.livevns.in) ना तो कि‍सी राजनीति‍क शरण में कार्य करते हैं और ना ही हमारे कंटेंट के लिए कि‍सी व्‍यापारि‍क/राजनीतिक संगठन से कि‍सी भी प्रकार का फंड हमें मि‍लता है। वाराणसी जिले के कुछ युवा पत्रकारों द्वारा शुरू कि‍ये गये इस प्रोजेक्‍ट को भवि‍ष्‍य में और भी परि‍ष्‍कृत रूप देना हमारे लक्ष्‍यों में से एक है।