आध्यात्मिक गुरू श्रीश्री रविशंकर

नारस। आध्यात्मिक गुरु श्रीश्री रविशंकर सोमवार की शाम श्रीकाशी विश्वनाथ मंदिर दर्शन पूजन के लिये पहुंचे। यहां वे निर्माणाधीन श्रीकाशी विश्वनाथ कॉरीडोर को देखने से खुद को रोक नहीं सके। दर्शन के पहले ही श्रीश्री ने कॉरिडोर का काफी बारीकी से अवलोकन किया। उनके साथ श्रीकाशी विश्वनाथ मंदिर के मुख्य कार्यपालक अधिकारी विशाल सिंह भी मौजूद रहे।

इस दौरान उन्होंने कहा कि आश्चर्य लग रहा है कि विश्वनाथ कॉरिडोर योजना से इतने सारे मंदिर निकले, जिन्हे कोई नही जानता था। यह काम जब पूरा हो जाएगा तो यह स्थान और भी सुन्दर दिखेगा।

विज्ञापन

बीएचयू के एलडी गेस्ट हॉउस में रुके हुए श्रीश्री रविशंकर शाम पांच बजे के करीब श्रीकाशी विश्वनाथ मंदिर दर्शन करने पहुंचे। गोदौलिया से विश्वनाथ मंदिर पहुँचने में जहां अध्यात्म गुरु को जाम से दो चार होना पड़ा वहीँ विश्वनाथ कॉरिडोर के स्वरुप को देखकर वो आश्चर्य से भर गए। उन्होंने कहा कि अच्छा और आश्चर्य लग रहा है कि इतने सारे मंदिर निकले।

उन्होंने कहा कि विश्वनाथ मंदिर पुरातन मंदिर है और इसमें हम सबकी आस्था है और श्रद्धा है। इस कॉरिडोर योजना से नया स्वरुप निकलकर सामने आया है। बनने के बाद यह और भी सुन्दर लगेगा। उन्होंने कॉरिडोर का कार्य करने वाले लोगों की भी सराहना की।

एक घण्टे तक श्रीश्री रविशंकर विश्वनाथ मंदिर परिक्षेत्र में रहे और अंत में बाबा विश्वनाथ का दर्शन पूजन कर अपने गंतव्य को रवाना हो लिए।

विज्ञापन
Loading...