नारस। शुक्रवार को लक्सा थानाक्षेत्र में हुए कार्तिक बजाज अपहरण काण्ड और गायब जेवर को लेकर अब नई बात सामने आई है। इस हाई प्रोफाइल केस में पुलिस ने जब कार्तिक के कॉल डिटेल और सीसीटीवी फुटेज को खंगाला तो नए खुलासे हुए हैं। पुलिस के अनुसार कार्तिक ने आरोपी ऋषि के को खुद कॉल करके बुलाया था। हालांकि, पुलिस के इस नए खुलासे के बाद अनिल बजाज पुलिस पर बड़े लोगों के दबाव में काम करने और तथ्यों को तोड़-मरोड़कर पेश करने का आरोप लगा रहे हैं। उनका दावा है कि यह उनकी ही तत्परता थी जो उनका बेटा सकुशल मिल सका।

इस मामले में नया खुलासा करते हुए सीओ दशाश्वमेध प्रीति त्रिपाठी ने बताया कि जांच के दौरान कार्तिक के मोबाइल की कॉल डिटेल और सीसीटीवी की रिकॉर्डिंग खंगालने से पता लगा कि कार्तिक ने ही गुरुवार की रात पिता अनिल बजाज और मां मेनका के घर न होने पर अपने दोस्त कॉल करके बुलाया था। कार्तिक ने तिजोरी से अपनी मां के गहने निकालकर अपने दोस्त को सौंपे थे। रात 10 बजे के आसपास घर लौटने पर जब मां-बाप ने जेवर गायब देखे तो कार्तिक से पूछताछ की। इस पर कार्तिक ने दोस्त को फोन कर जेवर लाने को कहा।

विज्ञापन

इस मामले में यह भी बात सामने आई है कि कार्तिक अपने मां बाप के सख्त रवैये के चलते घर छोड़कर भाग जाना चाहता था। इसी बीच जब मां-बाप जेवर ढूंढने में लगे हुए थे, कार्तिक अपने दोस्त के पास भाग गया। उसने दोस्त को घर छोड़कर भागने की बात बताई। दोस्त ने पहले तो उसे वापस जाने को कहा लेकिन कार्तिक अपनी जिद पर अड़ा रहा। थका-हार के दोस्तों ने उसको अशोक होटल की बेसमेंट में रात गुजारने को कहा। इसी अशोक होटल में कार्तिक और उसके दोस्त अक्सर हुक्का बार में बैठे नजर आते थे।

उधर मां-बाप कार्तिक की तलाश करने लगे और उसकी कोई खोज-खबर न मिलने पर उन्होंने उसकी गुमशुदगी की सूचना पुलिस को दी। पुलिस पूछताछ में भी यह बात सामने आई कि कार्तिक घर पर खेलने की बात कहकर हुक्का बार में चला जाता था। कार्तिक के दोस्त ही हुक्का बार में पेमेंट किया करते थे जो उसे अच्छा नहीं लग रहा था।

कार्तिक के पिता अनिल बजाज का आरोप है कि रसूखदारों के दबाव में पुलिस नई कहानी गढ़ रही है। उनका आरोप है कि पुलिस पूरे जेवर नहीं रिकवर कर पाई है। उनका आरोप है कि किडनेपर्स कार्तिक को प्रयागराज शिफ्ट करने की तैयारी में थे और अगर व समय पर शोक होटल न पहुंचते तो अनहोनी हो सकती थी।

उधर पुलिस का कहना है कि तफ्तीश में यह बात सामने आई कि कार्तिक अपने दोस्तों के साथ प्रयागराज जाकर नाइटआउट करने की तैयारी में था। पुलिस ने पूछताछ के दौरान कार्तिक से जानना चाहा कि उसके हिसाब से नाइट आउट का क्या मतलब है तो उसने बताया कि घर से दूर जाकर दोस्तों के साथ मौज-मस्ती करते और फिर लौट आते हैं।

विज्ञापन
Loading...